comScore

नागपुर में झमाझम बारिश के बाद बादलों का डेरा, तापमान में 4.8 की गिरावट

नागपुर में झमाझम बारिश के बाद बादलों का डेरा, तापमान में 4.8 की गिरावट

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  नागपुर में रविवार की शाम को झमाझम बारिश के बाद सोमवार को सुबह से ही बादलों ने डेरा डाल रखा है।  बारिश ने रात में कई बार रुक-रुक कर असर दिखाया।  सुबह से आसमान में बादलों का ढेरा जमा हुआ है जैसे ही सूर्यदेव को बार-बार बादल घेर लेते हैं जिससे चुभने वाली धूप का फिलहाल कोई असर होता नहीं दिखाई पड़ रहा है। भरी दोपहर में भी सुहानी शाम जैसा मौसम दिखाई पड़ रहा है। बारिश के चलते रात का तापमान सीधा 4.8 डिग्री सेल्सियस कम हो गया है। इसके साथ ही अधिकतम तापमान में भी गिरावट आ गई है। इस बारिश ने दिन-रात चलने वाले एसी और कूलर से काफी राहत दी है। गर्म हवा के थपेड़ों के साथ ही गर्मी से तपने वाली दीवारों की तपन भी काफी हद तक कम हुई है। नागपुर के साथ ही विदर्भ में 4 जून तक बारिश की संभावना है जो गर्मी से राहत देने वाला है। इसी के साथ अब लोगों की नजर मानसून पर टिकी हुई है। नागपुर जिले में 19.2 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई।

रविवार को अधिकतम तापमान 43.3 डिग्री सेल्सियस था। न्यूनतम तापमान 27.2 डिग्री सेल्सियस था। सोमवार को न्यूनतम तापमान में 4.8 डिग्री सेल्सियस की गिरावट आने की वजह से न्यूनतम तापमान 22.4 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया जो औसत तापमान से 6.3 डिग्री सेल्सियस कम है। सोमवार को सुबह से ही नागपुर का मौसम खुशनुमा बना हुआ है। सोमवार को रोज की तरह चुभने वाली धूप से बड़ी राहत मिली है। रात में बारिश के बाद  और ठंडी हवाएं चल रही हैं। नागपुर के साथ ही विदर्भ में इससे बड़ी राहत मिली है। इसके साथ ही 4 जून तक मौसम विभाग ने बारिश का अनुमान जताया है जो लगातार तपती गर्मी से बड़ी राहत देने में सफल होता दिखाई पड़ रहा है। 

इन जगहों पर हुआ नुकसान
बता दें कि रविवार की शाम आई आंधी-तूफान से नागपुर शहर ग्रामीण इलाकों में काफी नुकसान हुआ है। कामठी-कन्हान में दर्जनों मकानों के टीन शेड तेज हवा के साथ उड़ गए। पेड़ गिरने से ड्रैगन पैलेस की सुरक्षा दीवार भी ध्वस्त हो गई है। राष्ट्रीय महामार्ग क्रमांक-47 पर कोराड़ी में मॉडर्न स्कूल चौक के पास हाईमास्ट लाइट का बड़ा खंभा गिर गया। इस वजह से महामार्ग पर करीब एक घंटा यातायात बाधित रहा। जिले में 4.9 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है।  उधर, रामगिरी फीडर पर पेड़ की शाखा गिरने से ब्रेकडाउन हो गया। इससे फाॅरेस्ट सोसायटी समेत आस-पास के इलाके की बिजली गुल हो गई। सुगतनगर पानी टंकी के पीछे पेड़ गिर गया। इससे बिजली के तार टूट गए। इसकी वजह से करंट की चपेट में आकर 2 श्वान मर गए। कई इलाकों की बत्ती भी गुल रही।  

कमेंट करें
7oR6W