दैनिक भास्कर हिंदी: पति की मौत के दो दिन बाद विधायक मंडावी की पत्नी परिवार सहित वोट डालने पहुंची

April 11th, 2019

डिजिटल डेस्क, रायपुर। लोकसभा चुनाव के पहले चरण की वोटिंग हो चुकी है। इसमें दंतेवाड़ा में हुए नक्सली हमले में मारे गए भारतीय जनता पार्टी विधायक भीमा मंडावी की पत्नी ओजस्वी मंडावी ने भी मतदान किया। ओजस्वी ने अपने पूरे परिवार के गदापाल के बूथ पर जाकर अपना वोट डाला। बता दें कि दंतेवाड़ा में नक्सलियों ने IED ब्लास्ट कर भाजपा विधायक मंडावी की हत्या कर दी थी। समूची राजनीति में इस घटना के बाद से ही शोक की लहर दौड़ गई। मंडावी के पिता ने नाराजगी दर्ज कराते हुए कहा था कि वह अपने बेटे की मौत का बदला जरूर लेंगे। मतदान के पहले नक्सलियों ने मतदान केंद्र पर धमकी भरे पर्चे भी चिपकाए थे, लेकिन मंडावी के परिवार ने इसकी परवाह नहीं की। 

नक्सली हमले में अपनी जान गंवाने वाले बीजेपी विधायक भीमा मंडावी अपने क्षेत्र में काफी लोकप्रिय थे। मंडावी बीजेपी के अकेले ऐसा नेता थे, जिन्होंने 2018 में हुए विधानसभा चुनाव में बस्तर संभाग की 12 सीटों में से एक सीट पर जीत हासिल की थी।दंतेवाड़ा सीट पर भीमा मंडावी ने कांग्रेस की देवती कर्मा को हराया था। मंडावी  विधानसभा में भाजपा विधायक दल के उपनेता भी थे। यह पहली बार नहीं है जब बस्तर में नक्सलियों ने चुनाव से पहले किसी राजनीतिक दल के काफिले पर हमला किया है। इससे पहले 25 मई 2013 को झीरम घाटी में नक्सलियों ने कांग्रेस के काफिले को निशाना बनाया था। इस हमले में मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री विद्याचरण शुक्ल, तत्कालीन छत्तीसगढ़ कांग्रेस अध्यक्ष नंदकुमार पटेल, महेंद्र कर्मा, उदय मुदलियार समेत 30 लोगों की मौत हो गई थी।

बताया जा रहा है कि एसपी अभिषेक पल्लव ने विधायक भीमा मंडावी को रास्ते से ना जाने की सलाह दी थी। मंडावी सलाह दरकिनार करते हुए उसी रास्ते से गए और घटना का शिकार हो गए।