मध्य प्रदेश विधानसभा: दो दिन तक ही चला मानसून सत्र, अनिश्चिकाल के लिए स्थगित हुआ सदन

August 10th, 2021

डिजिटल डेस्क, भोपाल। मध्य प्रदेश विधानसभा का मानसून सत्र दूसरे ही दिन स्थगित हो गया। आज महंगाई और ओबीसी आरक्षण को लेकर सरकार और विपक्ष के बीच आरोप-प्रत्योराप हुआ। हंगामे के बाद विधानसभा अध्यक्ष ने कार्यवाही 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी। कार्यवाही शुरू होने के बाद अनुपूरक बजट और सभी विधयेक पेश हुए। इसके बाद सदन की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी गई। 

सदन की कार्यवाही स्थगित होने के बाद नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ ने मीडिया से कहा, विधानसभा शुरू हुई, महंगाई पर प्रश्न उठा, हमने स्थगन प्रस्ताव मूव किया था।सर्वदलीय बैठक में चर्चा हुई थी कि स्थगन प्रस्ताव में से एक तो स्वीकार कर लीजिए। हमने 139 में कई प्रस्ताव रखे थे उसमें से बता दीजिए कि 3-4 स्वीकार करेंगे। कुछ बताने को तैयार नहीं हैं। 

कमलनाथ ने कहा, प्रदेश का हर वर्ग परेशान है। नौजवान बेरोजगार घूम रहे हैं, किसान पीड़ित है, मूल्य, खाद और बीज नहीं मिल रहा है। मैं बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करके आया, कोई व्यवस्था नहीं है। इन्होंने घोषणा की कि जिनकी कोरोना से मौत हुई है उन्हें मुआवजा देंगे। एक व्यक्ति को भी नहीं मिला।

वहीं, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा, हमारे आदिवासी, अनुसूचित जनजाति के मुद्दे पर कांग्रेस ने भ्रम फैलाने की कोशिश की। आज उन्होंने पाखंड किया। इन्होंने पिछड़े वर्ग को धोखा दिया और उनके साथ पाखंड किया। पिछड़ा वर्ग की पीठ में छूरा घोंपने की घटिया राजनीति की।

सीएम शिवराज ने कहा, 8 मार्च 2019 को ये 14%-27% आरक्षण का प्रावधान लेकर आए। 10 तारीख को उसके खिलाफ याचिका प्रस्तुत हुई और 19 तारीख को हाईकोर्ट ने उसे स्टे कर दिया। कमलनाथ जी आपको जवाब देना होगा, 27% आरक्षण बरकरार रखने के लिए 10-19 तारीख तक आपने क्या किया?

 

खबरें और भी हैं...