दैनिक भास्कर हिंदी: महाराष्ट्र: कक्षा 10वीं व 12वीं के नकलचियों को माफ करे बाेर्ड

June 17th, 2020

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  राज्य शिक्षा मंडल की कक्षा 10वीं और कक्षा 12वीं की बोर्ड परीक्षा में पकड़े गए नकलचियों को माफ करने की मांग शिक्षक भारती संगठन ने की है। इस संदर्भ में विभागीय अध्यक्ष भाऊ पत्रे ने राज्य शिक्षा मंडल के अध्यक्ष को पत्र भी लिखा है। संगठन के अनुसार बोर्ड परीक्षा मंे पकड़े गए नकलचियों की जिला स्तर पर सुनवाई होती है, लेकिन नागपुर विभाग अंतर्गत वर्धा, गोंदिया भंडारा, चंद्रपुर और गड़चिरोली जिले की भौगौलिक परिस्थिति और लॉकडाउन को ध्यान में रखना जरूरी है।

संगठन के अनुसार गड़चिरोली जैसे दुर्गम जिले में गांव मुख्यालय से काफी दूरी पर है। उदाहरणार्थ गड़चिरोली से सिरोंचा तहसील का अंतर करीब 250 किमी है। विविध जिलों में ऐसी ही स्थिति है।  लॉकडाउन के कारण बस और अन्य आवागमन के साधन भी बंद है। ऐसे में नकल के आरोपी विद्यार्थी जिला मुख्यालय तक नहीं पहुंच सकते। ऐसी स्थिति में बेहतर होगा कि विशेष छूट देकर उन्हें माफ किया जाए। इससे विद्यार्थियों में तनाव और आत्महत्या के विचार आने से रोका जा सकेगा। उल्लेखनीय है कि बोर्ड के  मूल्यांकन का काम लगभग पूरा हो गया है, जल्द ही नतीजे जारी हो सकते हैं। 

मूल्यांकन का काम पूरा
इस वर्ष नागपुर विभाग में कक्षा 10वीं में 1,87,797 और कक्षा 12वीं में 1,68,508 विद्यार्थियों ने पंजीयन कराया था। मूल्यांकनकर्ताओं को 10वीं की 13,07,431 और 12वीं की 9,47,073 उत्तर पुस्तिकाओं की जांच करनी है। राज्य में 12वीं कक्षा की परीक्षा 18 फरवरी और 10वीं कक्षा की परीक्षा 1 मार्च से शुरू हुई। लॉकडाउन के पूर्व कक्षा 12वीं के पेपर समाप्त हो गए, लेकिन कक्षा 10वीं का भूगोल का पेपर शेष रह गया था, जिसे रद्द किया गया। मूल्यांकन का कार्य शेष था, जो लॉकडाउन के कारण सुस्त पड़ गया, लेकिन बोर्ड अधिकारियों का दावा है कि मूल्यांकन लगभग पूरा हो चुका है। 

खबरें और भी हैं...