comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

मुंबई बंद : आंदोलन और मौत के बाद बातचीत के लिए तैयार सरकार, दो विधायकों ने दिया इस्तीफा

July 26th, 2018 11:45 IST

हाईलाइट

  • मराठा आरक्षण की मांग को लेकर महाराष्ट्र में शुरू हुआ आंदोलन अब हिंसक हो गया है।
  • औरंगाबाद में एक युवक ने गोदावरी नदी में कूदकर अपनी जान दे दी है।
  • वहीं महाराष्ट्र के कई इलाकों में गाड़ियों, बसों और ट्रकों को तोड़फोड़ कर आग के हवाले कर दिया गया है।

डिजिटल डेस्क, मुंबई। मराठा आरक्षण की मांग कर रहे प्रदर्शनकारियों ने एक बार पुलिस पर पथराव किया। छह घंटे लंबे जाम के बाद मुंबई-पुणे हाईवे को पुलिस प्रशासन की मदद से खुलवाया गया। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पथराव किया। पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए लाठीचार्च करने के साथ आंसू गैसे के गोले भी छोड़े। इससे पहले मराठा आरक्षण आंदोलन क्रांति के बीच मराठा क्रांति मोर्चा ने मुंबई बंद का फैसला वापस लिया था।


आंदोलन का नेतृत्व कर रहे एक नेता ने कहा कि लोगों को दफ्तर से घर लौटने में दिक्कत न हो इसलिए आंदोलन को वापस लिया गया है। वहीं मुंबई, नवी मुंबई, पालघर, ठाणे, कल्याण, सातारा, नासिक में बंद का हिंसक असर देखने को मिला है। इसी बीच महाराष्ट्र के सीएम देवेन्द्र फडणवीस ने कहा है कि हम आरक्षण की मांग कर रहे संगठनों से बातचीत करने के लिए तैयार है। सीएम फडणवीस ने कहा है कि, इस मराठा समुदाय के लिए आरक्षण का कानून बनाया गया है, लेकिन इस पर मुंबई हाईकोर्ट ने रोक लगा रखी है। मराठा आंदोलन को लेकर शिवसेना विधायक के बाद एनसीपी विधायक भाऊसाहब चिकटगांवकर ने इस्तीफा विधानसभा अध्यक्ष हरिभाऊ बागड़े के कार्यालय को ई-मेल के जरिये भिजवा दिया।


बंद के दौरान नवी मुंबई को मराठा मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने पूरी तरह से जाम कर दिया। यहां पुलिस की भी एक गाड़ी को आग के हवाले कर दिया गया। इस दौरान पुलिस को भी हवाई फायर करना पड़ा। बंद के दौरान मराठा कार्यकर्ताओं ने ठाणे स्टेशन पर ट्रेन रोकने की भी कोशिश की। आरक्षण की मांग को लेकर मंगलवार से शुरू हुआ मराठा आंदोलन अब तक काफी हिंसक रहा है। महाराष्ट्र के 15 जिलों में इसका असर सबसे ज्यादा देखने को मिला है, जहां तोड़फोड़ और आगजनी की गई। इस आंदोलन में अब तक एक कांस्टेबल समेत 2 लोगों की मौत हो चुकी है।

सतारा में बेकाबू भीड़ का पुलिस पर हमला 
महाराष्ट्र के सातारा जिले में आंदोलनकारियों ने पुलिस को निशाना बनाते हुए जमकर पथराव किया। जिसमें पुलिस अधीक्षक संदीप पाटील समेत अन्य चार पुलिस कर्मी घायल हो गए। पुलिस वैन में भी तोड़फोड़ की गई। भीड़ पर काबू पाने के लिए पुलिस को हवा में गोलियां चलानी पड़ी, साथ ही गैस के गोले छोड़ने पड़े। राजवाड़ा से जिलाधिकारी कार्यालय तक मोर्चा निकाला गया था। उसके बाद कुछ आंदोलनकारी मुंबई-बेंगलुरू नेशनल हाईवे रोकने के लिए गए। जहां आंदोलनकारियों ने जमकर नारेबाजी की। टायर जलाकर यातायात रोका। इस दौरान पुलिस को हल्के बल का प्रयोग करना पड़ा। कराड़ में भी प्रदर्शनकारियों ने आगजनी कर दुपहिया रैली निकालकर बंद करवाया।  
 

मुंबई बंद LIVE Update....
 

हिंसा के बीच मराठा क्रांति मोर्चा ने मुंबई बंद वापस ले लिया। लोगों को घर लौटने में दिक्कत न हो इसलिए आंदोलन को वापस लिया गया।
 

शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा है कि महाराष्ट्र में मराठा आंदोलन के लिए बीजेपी जिम्मेदार है। आंदोलनकारियों को नहीं समझा पाना बीजेपी की विफलता है।

एनसीपी की सांसद सुप्रिया सुले ने महाराष्ट्र में आरक्षण के लिए चल रहे मराठा समुदाय के आंदोलन का मुद्दा आज लोकसभा में उठाया और कहा कि मराठा और धनगर समुदायों की मांगों को पूरा करके उनके साथ न्याय किया जाना चाहिए।

हिंसक आंदोलन की वजह से पूरी मुंबई की लोकल सेवा भी ठप हो गई है। आंदोलन के दौरान पुलिस की तीन गाड़ियों को भी तोड़फोड़ कर आग के हवाले कर दिया गया।

मुंबई में मराठा क्रांति मोर्चा के कार्यकर्ता दुकानदारों से हाथ जोड़कर अपनी दुकान बंद करने का आग्रह कर रहे हैं।

हिंसक मराठा आंदोलन के दौरान ठाणे इलाके में माजिवादा पुल के पास प्रदर्शन के दौरान टायरों में आग लगा दी गई।


शासन ने अफवाहों को रोकने के लिए औरंगाबाद में इंटरनेट सेवाएं बंद कर गईं। वहीं गंगापुर में पत्थरबाजी के दौरान एक पुलिस कॉन्स्टेबल की मौत हो गई। एसएल काटगावकर ओस्मनाबाद जिले में हेड कॉन्स्टेबल के पद पर तैनात थे उन्हें ड्यूटी के लिए गंगापुर में नियुक्त किया गया था। भीड़ की तरफ से की गई पत्थरबाजी के दौरान उन्हें हार्ट अटैक आ गया और उनकी मौत हो गई। वहीं 26 प्रदर्शनकारियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। बता दें कि सोमवार को जलसमाधि आंदोलन करते हुए गोदावरी नदी में कूदकर काकासाहेब सिंदे नाम के एक युवक ने अपनी जान दे दी थी, जिसके बाद से ये आंदोलन और ज्यादा भड़क गया। काकासाहेब की मौत के बाद मराठा क्रांति मोर्चा ने मंगलवार को महाराष्ट्र बंद का ऐलान किया था।

औरंगाबाद, मुंबई के अलावा कोल्हापुर, सातारा, सोलापुर और पुणे में हालात तनाव पूर्ण हो गए। आंदोलनकारी काकेसाहेब को शहीद का दर्जा देने की भी मांग करने लगे। काकासाहेब शिंदे का मंगलवार को अंतिम संस्कार किया गया। अंतिम संस्कार में मराठा समुदाय के लोगों के अलावा कई राजनेता भी शामिल हुए। हालांकि मराठा समाज के लोगों ने अंतिम संस्कार में नेताओं के आने पर आपत्ति उठाई और उनका विरोध किया। उधर, शिवसेना ने मराठा आरक्षण का समर्थन किया है। मराठा क्रांति समाज ने कहा है कि जब तक उनकी मांगें पूरी नहीं हो जाती हैं, उनका आंदोलन जारी रहेगा।  बढ़ती हिंसा को देखते हुए औरंगाबाद के डीएम उदय चौधरी ने मराठा क्रांति मोर्चा की अधिकांश मांगे मान ली है। डीएम उदय चौधरी ने बताया कि सरकार मृतक काकासाहेब शिंदे के परिवार को 10 लाख रुपये मुआवजा देगी। साथ ही उनके छोटे भाई को सरकारी नौकरी भी दी जाएगी। 

औरंगाबाद में ही मराठा आंदोलन के दौरान मराठा क्रांति मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने गंगापुर के पास ही हाईवे पर एक ट्रक को आग के हवाले कर दिया। 

वैसे तो मराठा आरक्षण की मांग लंबे समय से हो रही है, लेकिन बीते कुछ दिनों से आरक्षण के लिए आंदोलन तेज हो गया है। सीएम देवेंद्र फडणवीस के खिलाफ लोग कड़ी नाराजगी जाहिर कर रहे हैं और मुख्यमंत्री पद से इस्तीफे की मांग की जा रही है। पिछले साल 9 अगस्त को मराठा समाज के लाखों लोगों ने महाराष्ट्र की सड़कों पर उतर कर एक बड़ा मार्च निकाला था। यह मार्च औरंगाबाद से शुरू होकर मुंबई में समाप्त हुआ था। उस समय सूबे के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने मराठा समाज की मांगों पर कई आश्वासन दिए थे। मुख्यमंत्री ने मराठा समाज के लिए घोषणाओं के साथ ही उनकी समस्याओं के निराकरण के लिये कैबिनेट की उप समिति बनाने का भी वादा किया था। 

कमेंट करें
5Omcv
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।