दैनिक भास्कर हिंदी: ग्राहकों की जेब काट रही महावितरण, मामूली सुधार के लिए भी ली जा रही मोटी रकम

December 25th, 2018

डिजिटल डेस्क, नागपुर। आपकी बिजली खराब हो गई है और आप महावितरण के इलाके में हैं, तो  फिर समझ लीजिए आपकी जेब कटी। वह भी थोड़ी बहुत रकम से नहीं, बल्कि हजारों रुपए से। यदि पैसे नहीं दिए तो आई हुई खराबी सुधारी नहीं जाएगी। यह मजाक नहीं, शहर के कांग्रेस नगर विभाग क्षेत्र की हकीकत है।  ऐसा हो रहा है और कोई सुनने वाला नहीं है।

यह है मामला
एक शख्स के यहां विद्युत कनेक्शन का एक फेज़ बंद हो गया। इसकी शिकायत महावितरण के केंद्रीय सहायता केंद्र में दर्ज करा दी गई। कुछ देर में महावितरण के 3 लाइनमैन उस शख्स के यहां पहुंचे। खंभे  (डिस्ट्रीब्यूशन बाक्स) पर जाकर जांच की और बताया कि वहां से आया सर्विस केबल जल गया है। करीब 40 हजार रुपए का खर्च आएगा। यह सुनकर शख्स घबरा गया और उनसे बोला कि देखो, कैसे तो भी सुधारो इतना ज्यादा खर्च एकदम से नहीं कर सकते। तीनों लाइनमैन में से संजय नामक युवक बोला कि चलो ठीक है हम सुधारते हैं, लेकिन 3500 रुपए का खर्च तो आएगा ही। फिर मोलभाव हुआ और बात 2 हजार रुपए पर तय हुई। 

मामूली खराबी के लिए भी बड़ा खर्च
जानकारी के अनुसार, सर्विस केबल का एक तार जला था। इससे 1 फेज नहीं आ रहा था। केबल अधिक थी तो जला हुआ हिस्सा काटकर जोड़ दिया गया और फेज चालू हो गया। इस बीच उस शख्स ने अपने परिचितों से बात की तो समझ आया कि इतनी बड़ी खराबी नहीं है, जितनी लाइनमैन बता रहे हैं और चूंकि खराबी खंभे पर है और अतिरिक्त केबल उपलब्ध है, तो कोई भी खर्च आने का सवाल ही नहीं हैं। लाइनमैन महावितरण के हैं और यह महावितरण की जवाबदारी है कि वह खंभे से आई खराबी को दूर करे। इसके लिए उपभोक्ता को कोई भी शुल्क देने की जरूरत नहीं हैं। 

फेज आने के बाद जब शख्स ने उनसे कहा कि इसके लिए तो कोई शुल्क नहीं देना पड़ता, तो वह किस बात का पैसा मांग रहे हैं। इस पर संजय बोला कि तुम्हारी शिकायत अटेंड करने के। यदि पैसे देने राजी नहीं होते, तो काम किए बगैर ही चले जाते। तुम करते रहते शिकायत। व्यक्ति ने उन्हें 1 हजार रुपए दिए और कहा कि यह मैं अपनी खुशी से दे रहा हूं। मैंने अभी बात की है और मालूम पड़ा कि इस काम का कोई शुल्क नहीं लगता है। इस पर संजय लाइनमैन बोला कि हम काम का पैसा मांग रहे हैं। पूरा पैसा होना। जब कहा गया कि इसकी शिकायत करेंगे, तो साथ आया बुजुर्ग लाइनमैन बोला कि करो शिकायत, किसी का डर नहीं है, मेरा तो वैसे ही रिटायरमेंट है। आखिर बाकी की रकम लेकर ही वे वहां से हटे।