comScore

मेयो के आईसीयू में गैंगस्टर को मारने की बनाई थी योजना, पुलिस ने दबोचा

मेयो के आईसीयू में गैंगस्टर को मारने की बनाई थी योजना, पुलिस ने दबोचा

डिजिटल डेस्क, नागपुर। गैंगस्टर गणेश मेश्राम और उसकी पत्नी प्रियंका मेश्राम पर कलमेश्वर में प्रतिद्वंद्वी गैंग के मुखिया गोलू मलिये ने गत 20 जुलाई को गोलियां दागीं थीं। दोनों को मेयो अस्पताल में भर्ती किया गया है। सूत्रों के अनुसार, मेश्राम दंपति के बचने पर आरोपी गोलू मलिये गैंग के साथ मेयो अस्पताल के आईसीयू में जाकर उनकी हत्या करने की योजना बना चुका था, लेकिन उसके पहले ही ग्रामीण अपराध शाखा पुलिस की टीम ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया।

अदालत में पेशी
 मेश्राम दंपति पर फायरिंग करने के आरोप में गिरफ्तार आरोपी गोलू मलिये, फारूख खान, शोविन माकोडे (कलमेश्‍वर), हिंमाशु चंद्राकर (त्रिमूर्ति नगर), मो. हैदर परवेज अंसारी (बंगाली पंजा), अंकित धुर्वे (एकात्मता नगर), चंद्रकांत शिंदे (दाते ले-आउट), अभिषेक गिरि (पांचपावली), अंकित निमजे (पांचपावली), गौरव पिल्ले (रेलवे कॉलोनी)  को बुधवार को कलमेश्वर के थानेदार मारोति मुलुक ने न्यायालय के समक्ष पेश किया। न्यायालय ने सभी आरोपियों को 27 जुलाई तक पीसीआर में भेजने का आदेश दिया है। 

तगड़ा बंदोबस्त
 गणेश मेश्राम और प्रियंका मेश्राम पर फायरिंग करने वाले आरोपियों की कलमेश्वर न्यायालय में पेशी के समय पुलिस का तगड़ा बंदोबस्त लगाया गया था। सावनेर, केलवद और कलमेश्वर थाने से 25 से अधिक जवानों को बंदोबस्त में तैनात किया गया था।  उक्त आरोपियों में से 7 आरोपियों की पैरवी कलमेश्वर न्यायालय के वकील किशोर देशमुख  और 2 आरोपियों की पैरवी नागपुर से आए वकील अभिषेक रामटेके ने की। मुख्य आरोपी गोलू  मलिये की वकील सऊद अफसर ने पैरवी की।

इन्होंने की कार्रवाई 
 इन आरोपियों को मंगलवार को ग्रामीण पुलिस अधीक्षक राकेश ओला के मार्गदर्शन में गिरफ्तार किया गया। ग्रामीण अपराध शाखा पुलिस विभाग के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक अनिल जिट्टावार, सहायक पुलिस निरीक्षक जितेंद्र वैरागड़े, उपनिरीक्षक सचिन मत्ते व अन्य ने कार्रवाई की। 

कमेंट करें
HJFlX