दैनिक भास्कर हिंदी: मेटल क्रश बैरियर वाहनों को एक्सीडेंट से बचाएगा, IRC गाइडलाइन पर होगा अमल

November 25th, 2018

डिजिटल डेस्क, नागपुर। इंडियन रोड कांग्रेस (IRC) के नवनियुक्त अध्यक्ष तोली बसार ने कहा कि इंडियन रोड कांग्रेस की गाइडलाइन पर अमल के लिए मैकेनिजम (उपाययोजना) तैयार करना बड़ी चुनौती है। गाइडलाइन पर अमल हुआ तो दुर्घटनाआें में कमी आएगी। IRC के नवनियुक्त तोली बसार की इंजीनियरिंग की शिक्षा अमरावती में हुई है। उस वक्त अमरावती का गवर्नमेंट इंजीनियरिंग कॉलेज नागपुर विद्यापीठ के तहत आता था। मूलत: अरुणाचल प्रदेश के तोली बसार ने इंजीनियरिंग के बाद आसाम से कानून की पढ़ाई (LLB) पूरी की।

अरुणाचल प्रदेश लोक कर्म विभाग हाई वे में मुख्य अभियंता के पद पर कार्यरत बसार ने बताया कि कम खर्चे में अच्छी सड़के व ब्रिज बनाना, तेजी से काम पूरा करना और नई तकनीक का इस्तेमाल कर नए-नए प्रयोग करने का चुनौतीपूर्ण काम पूरा करना है।IRC की गाइडलाइन पर अमल नहीं हो पाता आैर इस पर अमल के लिए मैकेनिजम (उपाययोजना) तैयार करना चुनौती है।

बसार ने कहा कि बहुत सी जगह IRC के मानकों के अनुसार सड़के और ब्रीज नहीं बने है। रोड सेफ्टी ऑडिट की गाइडलाइन पर भी अमल करना है। जिसके लिए निरंतर अपने स्तर पर प्रयास करने पर जोर है। केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्रालय की तरफ से IRC व रोड सेफ्टी ऑडिट की गाइडलाइन पर अमल के लिए जरूरी उपाय सुझाने की जिम्मेदारी मिली है। 

मेटल क्रश बैरियर से वाहनों काे खाई में गिरने से बचाया जा सकता है
संतुलन बिगड़ने से वाहन खाई में गिरने, रोड़ से फिसलकर वाहन गड्डे या नाले में गिरने या पहाड़ो के संकरे रास्ते में वाहनों दुर्घटना की खबरें अक्सर सुनाई देती है, लेकिन अब वाहनों को ऐसी दुर्घटनाआें से बचाने के लिए मेटल क्रश बैरियर आ गया है। यह एकतरह का लाइफ सेविंग डिवाइस है, जो वाहन को खाई में गिरने से रोककर पूर्ववत रास्ते पर भेजता है। IRC इसे अपनी स्वीकृति दे चुका है। फिलहाल यह डिवाइस मुंबई-पूणे एक्सप्रेस वे पर लगे है, जिसके बाद दुर्घटनाएं कम होने का दावा एक एनजीआे द्वारा किया गया है

IRC अधिवेशन में लगी प्रदर्शनी मेें इसका स्टाल लगा हुआ है।जो पहाडों, हिल स्टेशनों, खाई और बड़े नालों एवं गड्ढों के पास होनेवाली भीषण दुर्घटनाआें को रोक सकता है। सरकारी की तरफ से देश में इसके 5 टेंडर निकाले गए हैं।