दैनिक भास्कर हिंदी: मिलिटरी इंटेलिजेंस का नागपुर में छापा, मुंबई टीम ने दो संदिग्ध आतंकी पकड़े

November 10th, 2018

डिजिटल डेस्क, नागपुर। मुंबई से अाई मिलिटरी इंटेलिजेंस की टीम शहर के  भालदारपुरा परिसर से दो युवकों को अपने साथ ले गई है। उनके आतंकी होने का संदेह है। कार्रवाई को गुप्त रखा गया । पुलिस विभाग के कुछ आला अफसरों को छोड़कर किसी को जानकारी नहीं दी गई थी। यहां तक कि स्थानीय थाने की पुलिस को भी भनक नहीं लगने दी। दोनों युवक आतंकी हैं या उनका किसी आंतकी संगठन से स्लीपर सेल के रूप में जुड़े हैं, इस बारे में देर रात तक काेई पुष्टि नहीं हो पाई थी। जानकारी के अनुसार  इस कार्रवाई के बाद स्थानीय पुलिस और सेना देर रात तक माथापच्ची करती रही कि दोनों संदिग्धों को मुंबई की टीम आखिर कहां लेकर गई। 

उठ रहे कई सवाल
नागपुर में गत 8 अक्टूबर को शहर में स्थापित सुपरसोनिक मिसाइल ब्रह्मोस के इंजीनियर निशांत अग्रवाल को पाक एजेंसियों के साथ जासूसी के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। तब से नागपुर मिलिटरी इंटेलिजेंस के  राडार पर आ गया था। इस टीम की भालदारपुरा में विशेष नजर थी। नागपुर में यह कार्रवाई किए जाने के साथ ही रायबरेली और नोएडा से भी कुछ युवकों को टीम ने हिरासत में लिया है। नागपुर में ब्रह्मोस के अलावा वायुसेना कमांड, आर्मी कैंटोंनमेंट, मेंटेनेंस कमांड के अलावा राफेल विमान के पुर्जे भी शहर में ही बनने वाले हैं। ऐसे में इन 2 संदिग्धों की गिरफ्तारी से कई बड़े सवाल खड़े हाे गए हैं। 

सीएम की सुरक्षा बढ़ा दी गई  
सूत्रों के अनुसार, मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की हाल ही में सुरक्षा और बढ़ा दी गई है। उन्हें पहले ही जेड प्लस सुरक्षा मिली हुई है, लेकिन भीमा कोरेगांव  दंगे में जांच में सामने आये नक्सली एंगल और कुछ कथित समर्थकों की गिरफ्तारी के बाद से उन पर सुरक्षा एजेंसियों ने अधिक खतरा बताया है, जिसके चलते उनकी सुरक्षा और बढ़ा दी गई है।  

...तब से अलर्ट पर है शहर
सूत्रों के अनुसार, मिलिटरी इंटेलिजेंस की टीम ने  नागपुर, रायबरेली और नोएडा में कार्रवाई की गई। पहले रायबरेली से एक संदिग्ध को पकड़ा गया। उसकी निशानेदेही पर नोएडा में कार्रवाई करते हुए उसे पकड़ा गया और नागपुर के भालदारपुरा में सेना के इसी खुफिया दस्ते ने दो युवकों को हिरासत में लिया। देर रात तक पुष्टि नहीं हो पाई थी कि दोनों गिरफ्तार संदिग्धों को शहर से ले जाया जा चुका है या शहर में ही रखा गया है। शहर में संघ मुख्यालय के अलावा राजनीतिक दृष्टि से कई बड़े नेताओं की उपस्थिति भी शहर में बनी रहती है। संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत और केन्द्रीय मंत्री नितीन गडकरी को जेड प्लस सुरक्षा मिली हुई है। 1 जून 2006 को संघ मुख्यालय पर आतंकी हमला हो चुका है। इसके बाद से नागपुर में भी अलर्ट रहता है। मिलिटरी इंटेलिजेंस की इस बेहद गोपनीय छापेमारी को ब्रह्मोस से जुड़े होने की आशंका जताई जा रही है। 

खबरें और भी हैं...