comScore

भिवंडी से चलाई जाने वाली पार्सल ट्रेन से भेजे गए 28 हजार से ज्यादा पार्सल

भिवंडी से चलाई जाने वाली पार्सल ट्रेन से भेजे गए 28 हजार से ज्यादा पार्सल

डिजिटल डेस्क, मुंबई।  कभी कपड़ा मिलों के लिए मशहूर महानगर से सटा भिवंडी इलाका अब वेयरहाउसिंग हब के रूप में जाना जाता है। फ्लिपकार्ट, अमेजन, रिलायंस, स्नैपडील और फेडएक्स जैसी कई  बड़ी ई-कॉमर्स कॉमर्स कंपनियों के गोदाम यहीं हैं जहां से मुंबई और आसपास के इलाकों में सामान पहुंचाए जाते हैं। इसे देखते हुए मध्य रेलवे ने बिजनेस डेवलपमेंट यूनिट (बीडीयू) के सुझाव पर भिवंडी इलाके से पार्सल ट्रेन सेवा शुरू की और पहले ही सप्ताह में यह रेलवे और कारोबारियों दोनों के लिए मुनाफे का सौदा साबित हुई। पहले सप्ताह में ही पार्सल ट्रेन से 28 हजार 524 पार्सल के पैकेट भेजे गए जिनका कुल वजन 427 टन से ज्यादा था। दरअसल बीडीयू के जरिए रेलवे अब नए बिजनेस मॉडल तलाश कर रही है। भिवंडी में सामानों के गोदाम और देशभर में उनकी मांग को देखते हुए यहां से पार्सल ट्रेन शुरू करने का सुझाव दिया गया था। जिसके बाद यह सेवा शुरू की गई और फर्नीचर, रेफ्रिजरेटर, इलेक्ट्रॉनिक  सामान, खाद्य पदार्थ. दवाएं, सौंदर्य प्रशाधन देश के दूसरे हिस्सों में पहुंचाए गए। 

नामी कंपनियों के सामान भेजे गए
गोदरेज, ओनिडा, एलजी, बजाज, पार्लेजी, हिंदुस्तान लीवर, डेल-मोंटे जैसी नामी कंपनियों के सामान पार्सल ट्रेन के जरिए भेजे गए।  रेलवे के एक अधिकारी ने बताया कि भिवंडी में सामान लादकर उस डिब्बे को भी किसान रेल से जोड़कर बिहार के दानापुर तक ले जाया गया। बता दें कि भिवंडी रोड स्टेशन वसई-दिवा-पनवेल मार्ग पर स्थित है। यह उत्तर-दक्षिण रेलवे को जोड़ता है। रेलवे के साथ जेएनपीटी पोर्ट से भी यह जुड़ा हुआ है। मुंबई और ठाणे से नजदीकी, ट्रकों, टेंपों पार्क करने के पर्याप्त जगह जैसी सुविधाएं और आसपास स्थित गोदाम के चलते पार्सल ट्रेन के लिए यह स्टेशन फायदेमंद साबित हुआ है। वहीं हाल ही में शुरू की गई कृषि रेल भी काफी लोकप्रिय साबित हो रही है और इसकी मदद से अब तक 12 फेरों में 3169 टन से अधिक वस्तुओं का परिवहन किया गया है।  

कमेंट करें
kWq3p
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।