स्वास्थ्य: गड़चिरोली जिले के 300 से अधिक बालक कुपोषण के रेड जोन में

January 1st, 2022

डिजिटल डेस्क, गड़चिरोली।  सभी सुविधायुक्त पृथक महिला एवं बाल अस्पताल आरंभ करने के साथ विभिन्न योजनाओं के माध्यम से पोषाहार वितरित करने के बावजूद आदिवासी बहुल गड़चिरोली जिले में कुपोषण का प्रमाण कम होता नजर नहीं आ रहा है। विगत वर्ष पंचायत समिति स्तर पर किये गए एक सर्वेक्षण के मुताबिक गड़चिरोली तहसील में 300 से अधिक बालक अतिकुपोषित श्रेणी में पाए गये हैं।

यह आंकड़ा विगत तीन वर्षों की कालावधि में काफी बढ़ता नजर आ रहा है। लेकिन सरकारी महकमा पूरी तरह चुप्पी साधे बैठा है। हालत पूरी तरह गंभीर होने के बावजूद स्थानीय जनप्रतिनिधि भी इस ओर अनदेखी कर रहें हैं।  हाल ही में गड़चिरोली पंचायत समिति के माध्यम से गड़चिरोली तहसील में कुपोषण का सर्वेक्षण किया गया। 0 से 5 वर्ष आयुसीमा के कुल 6 हजार 929 बालकों की स्वास्थ्य जांच करायी गयी। सर्वेक्षण में 5 हजार 14 बालक साधारण श्रेणी में पाए गये। वहीं 1 हजार 533 बालक मध्यम श्रेणी में पाए गये। जबकि अतिकुपोषित श्रेणी में 300 से अधिक बालकों का समावेश किया गया।