comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

अवैध संबंधों के चलते महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा हत्याएं

अवैध संबंधों के चलते महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा हत्याएं

डिजिटल डेस्क, नागपुर। अवैध संबंध और प्रेम संबंध देश में हत्याओं की सबसे बड़ी वजहों में से एक है। साल 2019 में अवैध संबंधों के चलते महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा 245 हत्याएं हुई है। राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्यूरों (एनसीआरबी) के आंकड़ों के मुताबिक महाराष्ट्र में प्रेम संबंधों और अवैध संबंधों के चलते तीन सालों में 1119 लोगों की जान ले ली गई है। आंकड़ों के मुताबिक 2019 में अवैध संबंधों के चलते महाराष्ट्र में 245 लोगों की हत्याएं हुईं जो देश में सबसे ज्यादा है। इसके बाद तमिलनाडु का नंबर आता है जहां अवैध संबंधों के चलते 211 जिंदगियां खत्म हो गईं। मध्य प्रदेश तीसरे नंबर पर है जहां अवैध संबंधों के चलते 169 लोगों की जान गई। देशभर में 2019 में अवैध संबंधों के चलते 1602 हत्याएं दर्ज की गईं।

प्रेम संबंध भी देश में हत्या की बड़ी वजहों में से एक हैं। 2019 में 1570 हत्याएं प्रेम संबंधों के चलते दर्ज की गईं। इस मामले में उत्तर प्रदेश की स्थिति सबसे खराब है जहां प्रेम संबंधों के चलते 385 हत्याएं की गईं। हत्या के 270 मामलों के साथ बिहार दूसरे नंबर पर जबकि 148 मामलों के साथ महाराष्ट्र प्रेम संबंधों के चलते होने वाले हत्या के मामलों में तीसरे नंबर पर है। साल 2019 में देश में हत्या की कुल 28 हजार 918 मामले दर्ज किए गए हैं जिनमें से सबसे ज्यादा 9516 हत्याओं की वजह आपसी विवाद थे। इसके अलावा संपत्ति विवाद, पारिवारिक विवाद, निजी दुश्मनी भी हत्याओं की मुख्य वजहों में शामिल रहे। 

पैसों के विवाद में भी सबसे ज्यादा हत्याएं
साल 2019 में पैसों को लेकर विवाद में भी महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा 209 हत्याएं हुई। इसके बाद उत्तर प्रदेश और बिहार का नंबर आता है जहां क्रमश: 149 और 143 हत्याएं पैसों के लेनदेन को लेकर हुईं। देशभर में सा 2019 में पैसों के विवाद में 1067 हत्याएं हुईं। 

बच्चों की हत्या भी राज्य में ज्यादा
बच्चों की हत्या के मामलों में भी साल 2019 में महाराष्ट्र अव्वल रहा और छह साल से कम उम्र के बच्चों की हत्या की सबसे ज्यादा 77 मामले महाराष्ट्र में दर्ज किए गए। इनमें से 43 लड़कियां जबकि 34 लड़के शामिल थे। छह से 12 साल की उम्र के बच्चों के हत्या के मामले में भी महाराष्ट्र दूसरे नंबर पर रहा और यहां इस उम्र के 41 बच्चों की हत्या हुई। इस उम्र के सबसे ज्यादा 74 बच्चों की हत्या के मामले उत्तर प्रदेश में हुए। 12 से 16 साल की उम्र के भी 106 हत्याओं के साथ महाराष्ट्र ही सबसे आगे रहा। मध्य प्रदेश ऐसे 43 मामलों के साथ दूसरे नंबर पर रहा।

राज्य में जानलेवा प्रेम और अवैध संबंध 

साल         प्रेम संबंध के चलते हत्या   अवैध संबंध के चलते हत्या
2019          123                           222
2018          125                           256
2017          148                           245

कमेंट करें
5tTvA
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।