दैनिक भास्कर हिंदी: अमित शाह का दौरा: दलबदल की आशंका से अलर्ट मोड पर 'कांग्रेस'

August 17th, 2017

डिजिटल डेस्क, भोपाल। गुजरात और यूपी के बाद अब एमपी में अमित शाह के प्रस्तावित दौरे से पहले ही प्रदेश कांग्रेस अलर्ट मोड पर आ गई है। दरअसल इसकी वजह है कांग्रेस MLAदल के खेमे में जारी बीजेपी की सेंधमारी, जिसके चलते माना जा रहा है कि कांग्रेस के कुछ विधायक बीजेपी का दामन थाम सकते हैं।

फिलहाल कांग्रेस का फोकस 18 अगस्त से होने जा रहे बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के दौरे पर है। बताया जा रहा है इस दौरान चुनाव के पहले कांग्रेस का दामन छोड़कर बीजेपी में जाने को तैयार कुछ MLA की गोपनीय मुलाकात बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से कराई जा सकती है। इसके लिए महाकौशल क्षेत्र के एक मंत्री और पूर्व संगठन मंत्री अरविंद मेनन की भी भूमिका बताई जा रही है, जिनका हाल ही में संगठनात्मक कार्य से प्रदेश का दौरा हुआ था।

जबलपुर और विंध्य के MLA पर नजर

इस बीच कांग्रेस संगठन की नजर महाकौशल और विंध्य के कुछ MLA पर है, इनमें जबलपुर और डिंडौरी जिले के MLAका नाम चर्चा में हैं। हालांकि इनके बारे में पहले भी इस तरह की चर्चा रही है जिसका लगातार खंडन भी किया गया। इधर कुछ अन्य MLA की गतिविधियों को लेकर कांग्रेस खेमे में भी शंका है इसलिए पार्टी अपने खुफिया तंत्र के जरिए उनकी संभावित गतिविधियों पर फोकस किए हुए हैं। 

कांग्रेस की आशंका की वजह है हाल ही में हुए राष्ट्रपति चुनाव, जिसमें कांग्रेस और बसपा MLA की ओर से क्रास वोटिंग करने के आरोप भी लगे। इसके अलावा 2013 के विधानसभा और 2014 के राष्ट्रपति चुनाव में भी चौधरी राकेश सिंह, उदय प्रताप सिंह, डॉ भागीरथ प्रसाद, संजय पाठक और मैहर से नारायण त्रिपाठी बीजेपी का दामन थाम चुके हैं। इनके अलावा जतारा से कांग्रेस MLAदिनेश अहिरवार ने भी बीजेपी को दामन थाम लिया है। लिहाजा माना जा रहा है कि 2018 के विधानसभा चुनाव के पहले ही कुछ MLA फिर बीजेपी में जा सकते हैं। हालांकि कांग्रेस खेमे ने ऐसी किसी आशंका से इनकार किया है।

5 से 7 लोगों की टीम लेगी फीडबैक

अमित शाह के राजधानी दौरे के दौरान उनके साथ 5 से 7 लोगों की टीम भी आ रही है, जो एमपी में संगठन और सत्ता को लेकर फीडबैक लेगी। पार्टी सूत्रों के मुताबिक, इस फीडबैक के आधार पर 2018 के विधानसभा चुनाव को लेकर संगठन और सत्ता को लेकर निर्णय लिए जाएंगे। इसके पूर्व अमित शाह के राजधानी दौरे पर उनके स्वागत के खासे इंतजाम किए गए हैं। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव ने कहा कि बीजेपी की ओर से तोडफ़ोड़ की कोशिशें जारी हैं। हालांकि कांग्रेस का कोई भी MLA बीजेपी में जाने को तैयार नहीं है। जो भी बातें हो रही हैं, वह बीजेपी की ओर से उड़ाई जा रही अफवाह के अलावा कुछ भी नहीं है।