स्थायी समिति ने बिल पास करने से किया इनकार: मनपा ने बैरिकेड्स के किराए पर 4 करोड़ कर दिए खर्च

January 13th, 2022

डिजिटल डेस्क, नागपुर । मनपा में एक के बाद एक घोटाले सामने आने से स्थायी समिति सतर्क हो गई है। किसी भी प्रस्ताव को मंजूरी देने से पहले लेन-देन की पड़ताल की जा रही है। कोविड की पहली लहर में कंटेनमेंट जोन बनाने के लिए बैरिकेड्स किराए पर लिए गए थे। स्थायी समिति की बैठक में 4 करोड़ के बैरिकेड्स किराया भुगतान का प्रस्ताव बैठक में रखा गया। स्थायी समिति ने उसे पड़ताल के लिए जांच कमेटी के पास भेज दिया। 

4 घोटालों की जानकारी सामने आई
ठेकेदारों के साथ प्रशासन की मिलीभगत से मनपा को करोड़ों रुपए का चूना लगाया गया। स्टेशनरी घोटाले के बाद आयुक्त ने अतिरिक्त आयुक्त की अध्यक्षता में गठित समिति की आंतरिक जांच दरमियान अन्य 4 विभागों में घोटाले की प्रारंभिक जानकारी हाथ लगी है। कोविडकाल में मनपा की कमान प्रशासन के हाथ रही। विविध विभागों में घोटाले सामने आने से स्थायी समिति बिना पड़ताल किए कोई भी भुगतान के प्रस्ताव को मंजूरी देने से कतरा रही है। स्टेशनरी घोटाले की जांच के लिए 31 दिसंबर की आमसभा में नगरसेवकों की पांच सदस्यीय समिति गठित की गई है। 

मुंढे के कार्यकाल का है मामला
स्थायी समिति में बैरिकेड्स किराए के भुगतान का प्रस्ताव आने पर पड़ताल के लिए जांच समिति के पास भेजने का निर्णय लिया गया। तत्कालीन आयुक्त तुकाराम मुंढे के कार्यकाल में कोविड के मरीज बढ़ने पर कंटेनमेंट जोन बनाने के लिए बैरिकेड्स किराए पर लिए गए थे। उसके किराए का बकाया भुगतान प्रस्ताव स्थायी समिति की बैठक में रखा गया था।