दैनिक भास्कर हिंदी: नागपुर-छिंदवाड़ा रेल परियोजना 20 किलोमीटर पर अटकी

February 17th, 2020

डिजिटल डेस्क, नागपुर। नागपुर छिंदवाड़ा रेल परियोजना का कार्य दिसंबर तक पूरा होना था, लेकिन अब तक पूरा नहीं हो पाया है। जबकि अधिकारियों ने कहा था कि नवंबर 2019 के अंत में सीआरएस का दौरा करने के बाद दिसंबर अंत या जनवरी के पहले सप्ताह में ट्रेन परिचालन शुरू हो जाएगा। बताया गया है कि इस बजट में इसके लिए 10 करोड़ रुपए मिले हैं। केवल फिनिशिंग कार्य शेष है, जो इस माह के अंत तक पूरा हो जाएगा। 

अंतिम तिथि थी 31 मई...
तीन राज्यों को जोड़ने वाली इस अहम रेल परियोजना में नैरो गेज को ब्रॉड गेज में परिवर्तित किया जा रहा है। इसकी कुल लागत 1420.38 करोड़ थी। इसे पूरा करने के लिए अंतिम तिथि पिछले वर्ष 31 मई रखी गई थी। बाद में 15 जून तक कार्य पूरा होने की बात कही गई, लेकिन भंडारकुंड से भीमालगोंदी तक  घाट सेक्शन होने के कारण लगातार देरी होती रही। इसके पूरी तरह तैयार होने के बाद फिनिशिंग कार्य शेष रहने की बात अधिकारियों ने कही थी।

पिछले वर्ष नवंबर के अंत तक सीआरएस निरीक्षण करने और दिसंबर के अंत में शुरू करने का दावा भी किया गया था। अभी भी अधिकारी फरवरी माह के अंत तक फिनिशिंग कार्य पूरा करने की बात कह रहे हैं। इसमें इतवारी से केलोद तक, केलोद से भीमालगोंदी और भंडारकुंड से छिंदवाड़ा ट्रेन शुरू कर दी गई थी। भीमालगोंदी से भंडारकुंड तक के 20 किमी ट्रैक के कार्य में सबसे ज्यादा देरी हुई है।

आधुनिक मशीनों से काम
भंडारकुंड से भिमालगोंदी के बीच 20 किमी का मार्ग घाट सेक्शन है, इसलिए 45 मीटर ऊंचा रेलवे ब्रिज, 26 बड़े व 275 छोटे ब्रिज और 700 मीटर एवं 120 मीटर लंबी दो सुरंगें बनाई गई हैं। यहां पर मिट्टी धंसने और भूस्खलन होने की अधिक आशंकाएं हैं। इसलिए रेलवे ने यहां पर अत्याधुनिक मशीनें लगाकर कार्य किया, जो चुनौतीपूर्ण था। पूरे ट्रैक की लंबाई 149 किमी है। इस पर 11 स्टेशन और 16 हाल्ट स्टेशन हैं। इसमें सबसे ज्यादा परेशानी सुरंग और पुल बनाने में आई। इस मार्ग पर तीन बड़े पुल 500 मीटर, 450 मीटर और 300 मीटर के हैं।

इस माह के अंत तक कार्य पूरा हो जाएगा
अब गेज कनवर्शन का कार्य पूरा हो चुका है। इसके लिए सीआरएस को प्रपाेजल भेज दिया गया था, लेकिन सीआरएस की ओर से पूरा कार्य होने के बाद निरीक्षण की बात कही गई थी। फिनिशिंग का कार्य शेष है, जो इस माह के अंत तक पूरा हो जाएगा। हो सकता है अगले माह ही सीआरएस निरीक्षण भी हो जाए। कार्य पूरा होने के बाद हम सीआरएस को पत्र भेज देंगे। 
- एके सिंह, मुख्य अभियंता, दपूमरे
 

खबरें और भी हैं...