विधान परिषद चुनाव : नागपुर के पार्षद पिकनिक पर, जनता परेशान

December 4th, 2021

डिजिटल डेस्क, नागपुर। विधान परिषद चुनाव में पार्षद पाला न बदल लें, इसके लिए भाजपा ने अपने पार्षदों को नागपुर से बाहर पिकनिक पर भेज दिया है। जनता अपनी समस्याओं को लेकर परेशान है कि आखिर वो किसके पास जाए। पार्षदों के घर जाने पर पता चल रहा है कि पार्षद 10 दिसंबर के बाद मिलेंगे। पार्षदों के इलाकों की समस्याओं की सुध लेने वाला कोई नहीं है। पार्षदों के मोबाइल भी बंद पड़े हुए हैं। जनता इनसे कैसे संपर्क करे। जब कुछ पार्षदों के घर दस्तक दी, तो इनके घरों पर ताले लगे हुए थे। उल्लेखनीय है भाजपा नेता चंद्रशेखर बावनकुले के समर्थकों का दावा है कि उनके समर्थन में 334 पार्षद शहर से बाहर गए हैं।

परेशानी समझने वाला कोई नहीं
विधान परिषद का चुनाव 10 दिसंबर को है। चुनाव में हॉर्स ट्रेडिंग से बचाने के लिए भाजपा अपने पार्षदों को शहर से दूर पर्यटन स्थलों पर ले गई है। पार्षद अकेले पिकनिक पर जाते, तो उनकी गैरमौजूदगी में अन्य सदस्य जनता की परेशानी समझ सकते थे, लेकिन पार्षद परिवार समेत सैरसपाटे पर गए हैं, वह भी घर को ताला लगाकर। वार्ड की समस्या सुनने की कोई व्यवस्था नहीं है। 5 साल जनता की सेवा करने का वादा कर निर्वाचित इन पार्षदों ने जनता व जनता की समस्या को रामभरोसे छोड़ दिया है। सरकार हर चीज अनलॉक कर रही है आैर पार्षद घर लॉक करके शहर से निकल लिए।

बच्चों की शिक्षा को लगाया दांव पर 
पिकनिक पर गए भाजपा पार्षदों के बच्चे स्कूल व कॉलेजों में पढ़ रहे हैं। पार्षद बच्चों को साथ ले जाने से बच्चों की शिक्षा प्रभावित हो रही है। राजनीति में शिक्षा में सुधार की बात होती है, लेकिन राजनीति के लिए बच्चोें की शिक्षा को दांव पर लगाया गया है।

पार्षद एड. संजय कुमार बालपांडे (प्रभाग 19 अ) : इनके घर को ताला लगा हुआ है। इनका मोबाइल भी बंद पड़ा है। परिवार समेत शहर से बाहर पर्यटन पर गए हुए हैं। 

 पार्षद भारती बुंदे (प्रभाग 33 ब) : इनके घर पर भी ताला जड़ा हुआ है। इनका मोबाइल भी बंद है। 10 दिसंबर तक नागपुर पहुंचने की खबर है। जरूरतमंद लोग घर तक पहुंच कर वापस लौट रहे हैं।

पार्षद वंदना भगत (प्रभाग 33 अ) : इनके घर पर ताला लगा हुआ है। मनपा की डायरी में इनका जो नंबर है, उस पर संपर्क करने पर नंबर गलत बताया जा रहा है। आस-पड़ोस के लोगों ने बताया कि मैडम परिवार समेत घूमने गई हैं। 

पार्षद अभय गोटेकर (प्रभाग 32) : इनके घर कोई मौजूद नहीं है। दरवाजे पर ताला लगा हुआ है। मोबाइल पर संपर्क किया, तो 10 तारीख को नागपुर पहुंचने का जवाब दिया गया। किस सिलसिले व क्यों फोन किया, यह सवाल पूछा गया। नागपुर पहुंचने के बाद बात करने का जवाब दिया गया। 

पार्षद विशाखा बांते (प्रभाग 33 क) के घर पर कोई मौजूद नहीं था।  मोबाइल उनके पति शरद बांते ने उठाया। मैडम शहर से बाहर जाने का जवाब दिया। विधान परिषद चुनाव को देखते हुए अन्य पार्षदों के साथ बाहर जाने की जानकारी दी। एरिया की समस्या देखने के लिए एक लड़का उपलब्ध होने का जवाब दिया।