दैनिक भास्कर हिंदी: नागपुर : वेल ट्रीट हॉस्पिटल में आग, 4 की माैत

April 10th, 2021

डिजिटल डेस्क, नागपुर। शहर से सटे उपनगरीय क्षेत्र वाड़ी के वेल ट्रीट मल्टी स्पेशलिस्ट अस्पताल में आग लगने से महिला सहित 4 मरीजों की मृत्यु हो गई।  मृतकों में तुलसीराम पारधी (47) गोरेवाड़ा, प्रकाश बोडे (69) मनीषनगर, रंजना कडू (44) धापेवाड़ा, रमेश ब्राम्हणकर (72) निवासी मौदा शामिल हैं। इस घटना से पूरे क्षेत्र में हड़कंप मच गया था। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने इस मामले की जानकारी प्रशासन से ली। उनके प्रतिनिधि के तौर पर पालकमंत्री नितीन राऊत ने मेडिकल अस्पताल पहुंचकर घटना की जानकारी ली। इस हादसे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय मंत्री नितीन गडकरी, पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने दु:ख जताया है।

आरंभिक तौर पर कहा जा रहा है कि आईसीयू वार्ड में बिजली के तार में शार्ट-सर्किट के कारण यह हादसा हुआ। कुछ माह पहले भंडारा के अस्पताल में आग से दर्जन भर शिशुओं की मृत्यु हो गई थी। उसके बाद आगजनी की यह दूसरी बड़ी घटना है। प्रशासन से मिली जानकारी के अनुसार, यह निजी अस्पताल नॉन कोविड है। आग लगने की सूचना मिलते ही अग्निशमन विभाग की गाड़ियां तत्काल घटनास्थल पर पहुंची थीं। अस्पताल के कमरों में धुआं अत्यधिक था। अग्निशमन विभाग के अधिकारी राजेंद्र उचके के अनुसार, आईसीयू वार्ड में 10 मरीजों में से 6 को सकुशल बाहर निकाला गया। शेष 4 काे आग प्रभावित अवस्था में बाहर निकाला गया। इनमें से एक मरीज को पहले नागपुर में निजी अस्पताल में ले जाया गया, लेकिन मृत्यु हो जाने पर उसका शव मेडिकल अस्पताल भेजा गया।

घटना की खबर मिलते ही वेल ट्रीट अस्पताल में लोगों की भीड़ जमा हो गई। तनाव फैल गया। अस्पताल में अव्यवस्था को लेकर कई आरोप लगे। कहा गया कि पहले भी अस्पताल की शिकायत की गई थी, लेकिन व्यवस्था में सुधार नहीं किया गया। अस्पताल में भर्ती मरीजों की संख्या को लेकर भी अलग अलग आंकड़े दिए जाते रहे। घटनास्थल पर पशु संवर्धन मंत्री सुनील केदार, पुलिस आयुक्त अमितेश कुमार, उपायुक्त नुरुल हसन, पहुंचे थे। स्थिति को नियंत्रित रखने के लिए कड़ा पुलिस बंदोबस्त लगाया गया।

पालकमंत्री ने कहा समिति करेगी जांच 
पालकमंत्री नितीन राऊत ने कहा है कि अस्पताल नियंत्रण समिति के माध्यम से घटना की जांच कराई जाएगी। प्रशासन काे तुरंत आदेश दिए गए हैं। घटना को लेकर लोगों के आरोपों की भी पड़ताल की जाएगी।

मनपा की तीन दमकल गाड़ियां मौके पर पहुंचीं
-रात्रि 8.10 बजे फायर ब्रिगेड को सूचना मिली। आग का केंद्र दूसरे माले पर आईसीयू का एसी यूनिट था। 
-वाड़ी और एमआईडीसी से एक-एक फायर ब्रिगेड की गाड़ी पहुंची। नागपुर मनपा की 3 गाड़ियां भी तत्काल पहुंचीं।
-करीब 18 से 20 कर्मचारी थे। दूसरे माले पर 10 मरीज में से 6 बाहर निकल आए। 4 को अग्निशमन वालों ने रेस्क्यू किया। इस माले पर बेड की क्षमता 16 है।
-तीसरे माले पर 17 बेड भरे हुए थे। सभी मरीजों को बाहर निकाला गया।
-चौथे माले पर रिकवरी रूम में 5 मरीज व एक स्टाफ सेफ्टी कर्मचारी था।
- तल माले पर निजी बैंक का कार्यालय व पहले माले पर एक कंपनी का कार्यालय है।

पीएम नरेंद्र मोदी ने जताया दु:ख
अस्पताल में आग लगने से लोगों की मौत पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दु:ख व्यक्त किया। पीएम मोदी ने ट्वीट किया, ‘नागपुर के अस्पताल में आग लगने की घटना से दु:खी हूं। मेरी संवेदनाएं इस हादसे में जान गंवाने वालों के परिजनों के साथ हैं। इस घटना में घायल लोगों के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना करता हूं।’