comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

नागपुर : गोरेवाड़ा टाइगर सफारी को मिला ‘राजकुमार’

नागपुर : गोरेवाड़ा टाइगर सफारी को मिला ‘राजकुमार’

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  गोरेवाड़ा इंटरनेशन जू के टाइगर सफारी में राजकुमार (बाघ) का पदार्पण हो गया है। उसे शनिवार को सुबह जू में प्रवेश दिया गया। वह 25 हेक्टेयर इलाके में स्वच्छंद विचरण करेगा। जल्द ही उसे एक साथी (बाघिन) भी मिलने वाली है। इसके अलावा अन्य वन्यजीव भी यहां छोड़े जाएंगे। उसके बाद गोरेवाड़ा टाइगर सफारी आम लोगों के लिए खोल दिया जाएगा। 

इंडियन के साथ अफ्रीकन सफारी भी होगी साकार
जू प्रशासन से मिली जानकारी के अनुसार वर्तमान में गोरेवाड़ा को इंटरनेशनल जू का रूप दिया जा रहा है। यहां 539 हेक्टेयर क्षेत्रफल में विकास कार्य किया जा रहा है। इसमें इंडियन सफारी के साथ अफ्रीकन सफारी भी देखने को मिलेगी। पहले चरण में 145 हेक्टेयर में इंडियन सफारी को शुरू किया जाने वाला है, जिसका काम पूरा हो चुका है। इसमें वन्यजीवों को छोड़ने का काम भी शीघ्र ही पूरा होने वाला है। इसके लिए कुछ दिन पहले ही अनुमति मिल गई है। गौरतलब है कि गोरेवाड़ा रेस्क्यू सेंटर में राज्य भर से रेस्क्यू कर लाए गए वन्यजीवों को रखा जाता है। इनमें से जो पूर्ण रूप से स्वस्थ्य हो जाते हैं, उन्हें वापस जंगलों में छोड़ दिया जाता है। आने वाले समय में यहां बाघ-बाघिन पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र होंगे।

कौन-कौन से वन्यजीव होंगे यहां
गोरेवाल इंटरनेशनल जू में बाघ-बाघिन के अलावा 7 तेंदुए छोड़े जाएंगे, जिसमें 2 मेल व 5 फिमेल शामिल हैं। इसी तरह 6 भालुओं में 3 मेल व 3 फिमेल होंगे। इसके अलावा जल्द ही 14 नीलगाय, 4 चीतल और 4 सांबर को भी यहां छोड़ा जाएगा। अब तक उपरोक्त वन्यजीवों को परिसर के नाइट शेल्टर में रखा गया था। मंगलवार को वन विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों की उपस्थिति में राजकुमार (बाघ) को टाइगर सफारी में छोड़ा गया है।

कमेंट करें
JmEpv