दैनिक भास्कर हिंदी: नागपुर : गोरेवाड़ा जू को मिले बाघ, तेंदुआ और भालू

November 27th, 2020

डिजिटल डेस्क, नागपुर। वन्यप्राणी बचाव केंद्र गोरेवाड़ा प्रकल्प में 2 बाघ, 7 तेंदुआ और 6 भालू स्थानांतरित करने के लिए केंद्रीय प्राणी संग्रहालय प्राधिकारण नई दिल्ली की ओर से अनुमति प्राप्त हुई है। उसके बाद "राजकुमार बाघ' और एक बाघिन को गोरेवाड़ा अंतरराष्ट्रीय प्राणी संग्रहालय में स्थानांतरित किया गया है। इसी प्रकार 7 तेंदुआ (2 नर और 5 मादा) तथा 6 भालू (3 नर और 3 मादा) को भी स्थानांतरित किया गया है। 

इन्होंने निभाई भूमिका
उक्त कार्रवाई गोरेवाड़ा वन्यप्राणी संशोधन व प्रशिक्षण केन्द्र संचालक डाॅ. शिरीष उपाध्ये, उपसंचालक डॉ. वी. एम. धुत, विभागीय व्यवस्थापक प्रमोद पंचभाई के मार्गदर्शन में की गई। इस दौरान वन्य प्राणी संशोधन व प्रशिक्षण केंद्र के पशु वैद्यकीय अधिकारी डॉ. शालिनी ए. एस., डॉ. मयूर पावशे, डॉ. सुजीत कोलगंथ, डॉ. तिस्ता जोसेफ  ने वन्य प्राणियों के स्वास्थ्य की जांच की व्यवस्था की। वन्य प्राणियों के स्थानांतरण कार्यक्रम में विजय सूर्यवंशी, एच. वी. माडभुषी, दीपक सावंत, शुभम छापेकर, आर. पी. भिवगडे़, नीलय भाेगे, आर. डी. वलथरे, पी. सी. पाठराबे की महत्वपूर्ण भूमिका रही। वन्य प्राणी रेस्क्यू सेंटर गोरेवाड़ा में वन्य प्राणियों को पिंजरा बंद करने व गोरेवाड़ा अंतरराष्ट्रीय प्राणी संग्रहालय स्थानांतरित करने में वन्यजीव रक्षक कुदंन हाते, डॉ. सैयद बिलाल अली, डॉ. मयूर काटे, आशीष महल्ले, समीर नेवाले, सिद्घांत मोरे, चेतन बावस्कर, प्रभुनाथ शुक्ला का महत्वपूर्ण योगदान रहा।