comScore

शराब बनाने वाली कंपनी पर डीजीजीआई का छापा

शराब बनाने वाली कंपनी पर डीजीजीआई का छापा

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  शराब बनाने वाली देश की एक बड़ी कंपनी के विभिन्न ठिकानों पर वस्तु एवं सेवाकर आसूचना महानिदेशालय (डीजीजीआई) नागपुर ने कर चोरी के मामले में छापामार कार्रवाई की है। 20 और 21 जुलाई को नागपुर सहित नाशिक और भंडारा में की गई कार्रवाई में 3.16 करोड़ रुपए की जीएसटी चोरी का मामला सामने आया है, जिसमें 1.31 करोड़ रुपए कर की वसूली की जा चुकी है। जानकारी के अनुसार डीजीजीआई नागपुर की टीम ने गुप्त सूचना के आधार पर शराब कंपनी की नागपुर, नाशिक और भंडारा यूनिट पर कार्रवाई की। इस कार्रवाई में करदाता ने इनपुट टैक्स क्रेडिट का 1.34 करोड़ रुपए का फर्जीवाड़ा किए जाने का खुलासा हुआ है। जिसमें से 1.28 करोड़ रुपए की वसूली कर ली गई है। 

दूसरी ओर करदाता ने डीनेचर्ड स्प्रिट और रेक्टिफाइड स्प्रिट में 7.18 लाख रुपए की वसूली की, लेकिन कर सरकार के खाते में जमा नहीं किया। इस मामले में भी 2.27 लाख रुपए की वसूली की गई है। करदाता ने एक्स्ट्रा नेचुरल अल्कोहल पर भी 24.73 लाख रुपए का कर नहीं भरा है। इसे जल्द ही वसूल किया जाएगा। इसके अलावा करदाता ने अब तक 1.50 करोड़ रुपए के सामान की सप्लाई को इस वित्तीय वर्ष में जाहिर नहीं किया है। इसे भी जल्द ही वसूल किया जाएगा। मामले में जांच-पड़ताल की जा रही है। कर चोरी करने वाले राज्य के अन्य लोगों पर भी नजर बनी हुई है।
 

कमेंट करें
V9cat