दैनिक भास्कर हिंदी: नागपुर : कचरा संकलन एजेंसियों पर मनपा की मेहरबानी

February 22nd, 2021

डिजिटल डेस्क, नागपुर। शहर में कचरा संकलन का जिम्मा दो एजेंसियों को दिया गया है। दोनों एजेंसियाें की कार्यप्रणाली शुरुआत से ही विवादित रही। मनपा पदाधिकारियों के फटकार लगाने पर भी कोई सुधार नहीं हुआ। एक माह पूर्व बीवीजी एजेंसी ने मनपा को बिना पूर्व सूचना दिए 113 सफाई कामगारों को नौकरी से हटा दिया। इसके विरोध में सभी कामगार हड़ताल पर उतर जाने से बवाल हुआ। महापौर ने एजेंसी को 24 घंटे में सभी कामगारों को वापस लेने का आदेश दिया। महापौर के आदेश की भी एजेंसी ने परवाह नहीं की। एक महीना बीत गया, लेकिन अभी तक एक भी कामगार को वापस नहीं लिया। इसके बावजूद कोई कार्रवाई नहीं की गई। लग रहा मनपा प्रशासन कचरा संकलन एजेंसियों पर मेहरबान है।

एजेंसियों की मनमानशहर में कचरा संकलन करने वाली कनक रिसोर्सेस का कार्यकाल समाप्त हो जाने पर दो नई एजेंसियां नियुक्त की गई। शहर के दो हिस्सों में विभाजित कर 5-5 जोन में कचरा संकलन की जिम्मेदारी दी गई। नई एजेंसियों को कनक के सफाई कामगार लेने की अनुबंध में शर्त डाली गई थी। शुरुआत में दोनों एजेंसियों ने पुराने कामगारों के लेेने से मना किया। राजनीतिक दबाव बनाने पर वापस लिया, लेकिन उन्हें नियमित काम देने में टालमटोल करती रही। जनवरी महीने में बीवीजी एजेंसी ने मनपा को बिना पूर्व सूचना दिए 113 कामगारों को नौकरी से हटा दिया। हटाए गए कामगारों के समर्थन में अन्य कामगार हड़ताल पर उतर गए। 

कचरा पृथक्करण नजरअंदाज
अनुबंध में गीला-सूखा कचरे का पृथक्करण, घर से कचरा उठाने की शर्त रखी गई है। शर्त का पालन नहीं करने पर जुर्माना वसूल करने का अनुबंधन में प्रावधान किया गया है। अनुबंध की शर्तें धरी की धरी रह गए। नई एजेंसियों को कचरा संकलन की जिम्मेदारी संभाले एक वर्ष हो गया। अभी भी कचरे का पृथक्करण नहीं किया जा रहा है। कलेक्शन सेंटर पर कचरा छोटे वाहन से बड़े वाहन में ट्रांसफर करने की शर्त की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं।  


डंपिंग यार्ड में डाला जा रहा मिश्रित कचरा
शहर से प्रतिदिन 1200 टन कचरा निकलता है, लेकिन संकलन एजेंसियां पृथक कचरा संकलन करने में नाकाम रही। मिश्रित कचरा डंपिंग यार्ड में डाला जा रहा है। पृथक कचरा मुश्किल से 40% संकलन होने की विभाग से जानकारी मिली है। मिश्रित कचरा डंपिंग यार्ड में डालने पर एजेंसी के िखलाफ जुर्माना ठोंकने का अनुबंध में प्रावधान है। नियम का उल्लंघन होने पर भी मनपा और पदाधिकारियों ने एजेंसियों से जुर्माना वसूल करने की हिम्मत नहीं दिखाई है।

जुर्माना वसूलने की चेतावनी
बीवीजी एजेंसी ने काम से हटाए 50% कामगारों को शहर में और 50% कामगारों को अन्य प्रदेश में काम पर लेने का आश्वस्त किया। है। इस प्रक्रिया के लिए 15 दिन का समय मांगा है। अनुबंध के अनुसार पृथक कचरा संकलन करना एजेंसियों की जिम्मेदारी है। शर्तों का उल्लंघन करने पर जुर्माना वसूल किया जाएगा। -दयाशंकर तिवारी, महापौर