comScore

नागपुर के औद्योगिक क्षेत्रों में बढ़ने लगी है रौनक, 80% कारखाने शुरू

नागपुर के औद्योगिक क्षेत्रों में बढ़ने लगी है रौनक, 80% कारखाने शुरू

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  बुटीबोरी और हिंगना एमआईडीसी क्षेत्र में लगभग 80 प्रतिशत तक कारखानों  में काम शुरू हो चुका है। फैक्ट्रियों में अभी 50 प्रतिशत क्षमता से काम हो रहा है। जैसे-जैसे काम बढ़ रहा है, उद्योगों के सामने मजदूर की समस्या आ रही है।  लॉकडाउन के कारण दूसरे राज्यों के बहुत से मजदूर  लौट चुके हैं। उसी प्रकार शहर या एमआईडीसी क्षेत्र से दूर रहनेवाले स्थानीय मजदूर के सामने आवागमन की समस्या है। लॉकडाउन के कारण परिवहन सेवा बंद है। ऐसे में यहां रहनेवाले मजदूर भी काम पर नहीं लौट पा रहे हैं। लॉकडाउन के कारण प्रतिमाह 1000 करोड़ रुपए का मासिक टर्नओवर करनेवाले बुटीबोरी औद्योगिक क्षेत्र का टर्नओवर घटकर 400 से 500 करोड़ तक आ गया है। उद्यमियों की मानें तो हालात सामान्य होने में 6-8 माह तक का समय लग सकता है।

स्किल डेवलपमेंट सेंटर
उद्योगों में आ रही लेबर की समस्या से छुटकारा पाने के लिए एमआईडीसी क्षेत्र में स्किल डेवलपमेंट सेंटर शुरू किए जा रहे हैं। इन सेंटरों में स्थानीय मजदूरों को प्रशिक्षित किया जाएगा। बुटीबोरी एमआईडीसी में अभी 9 से 10 हजार मजदूर काम कर रहे हैं। हिंगना एमआईडीसी में लगभग 20 हजार मजदूर काम पर लौटे हैं।

कच्चा माल नहीं आ रहा
बुटीबोरी इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के अध्यक्ष प्रदीप खंडेलवाल ने बताया कि मुंबई, हैदराबाद, सूरत आदि शहर लॉकडाउन के कारण बंद है। मुंबई से यहां बहुत सा कच्चा माल आता है। इनमें मशीनरीज, कपड़ा, आदि का समावेश है। उसी प्रकार यहां की टेक्सटाइल मिलों से बहुत सा माल सूरत  जाता है। कच्चे माल के अभाव में बहुत से उद्योगों में काम प्रभावित हुआ है। 

28 दिन के क्वारेंटाइन पीरियड से परेशानी
हिंगना एमआईडीसी एसोसिएशन के अध्यक्ष चंद्रशेखर शेगावकर ने बताया कि हिंगना एमआईडीसी क्षेत्र में 2 उद्योगों में कोरोना पॉजिटिव मिले हैं, जिसके बाद दोनों फैक्ट्रियों को पूरी तरह से बंद कर दिया गया है। कर्मचारियों को 28 दिन के लिए क्वारेंटाइन किया गया है। जिन लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई है, उन्हें केवल 7 दिन के लिए होम क्वारेंटाइन करना चाहिए।

कमेंट करें
L6u09