दैनिक भास्कर हिंदी: दलहन व तिलहन में आत्मनिर्भरता के लिए नई नीति आएगी : तोमर

May 31st, 2021

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली । केन्द्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा है कि देश में खाद्यान्न की प्रचुरता भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) के अनुसंधान, किसानों के परिश्रम व सरकार की कृषि हितैषी नीतियों का परिणाम है। दलहन, तिलहन व बागवानी फसलों के क्षेत्र में ज्यादा काम करने की जरूरत बताते हुए उन्होने कहा कि दलहन व तिलहन में आत्मनिर्भरता के लिए नई नीति आएगी।

श्री तोमर ने यह बात सोमवार को आईसीएआर की उपलब्धियों, प्रकाशनों, नई कृषि प्रौद्योगिकियों एवं कृषि फसलों की नई फसलों की लॉचिंग तथा ‘कृतज्ञ’ (KRITAGYA) हैकाथॉन के विजेताओं के पुरस्कार वितरण कार्यक्रम में कही। ‘कृतज्ञ’ में प्रतियोगियों ने कृषि व संबद्ध क्षेत्रों के लिए एक से बढ़कर एक उपयोगी संरचनाएं सृजित कर अपनी योग्यता व क्षमता को साबित किया है। उन्होने कहा कि आईसीएआर के वैज्ञानिक जलवायु परिवर्तन की चुनौतियों, वर्षा आधारित खेती वाले क्षेत्रों व अन्य प्रतिकूल परिस्थितियों से निपटने, किसानों की आय बढ़ाने तथा उत्पादन व उत्पादकता बढ़ाने को लेकर समग्रता से विचार कर रहे हैं। फसल डायवर्सिकेशन पर भी तेजी से काम हो रहा है। कृषि मंत्री ने बताया कि आईसीएआर मुंहपका-खुरपका रोग से देश के पशुओं को मुक्त कराने के लिए सीरो-मॉनिटरिंग के माध्यम से महत्वपूर्ण काम कर रहा है। इसमें और तेजी लाने की आवश्यकता है।


 

खबरें और भी हैं...