कोरोना के चलते बिगड़ी शिक्षा प्रणाली: अमरावती जिले की 400 शालाओं में 20 विद्यार्थी भी नहीं

November 22nd, 2021

डिजिटल डेस्क, अमरावती। जिला परिषद स्कूलों में विद्यार्थियों की संख्या बढ़ाने के लिए शिक्षा विभाग द्वारा कई तरह के कार्यक्रम चलाए जाते है। इसके बावजूद जिले के 138 स्कूलों में विद्यार्थियों की संख्या 10 से भी कम है। जबकि 262 स्कूलों में 11 से लेकर 20 के करीब विद्यार्थी मौजूद है। इस तरह कुल 400 स्कूलों के द्वार पर कहीं हमेशा के लिए ताला न लग जाए इस बात का डर शिक्षकों के साथ ही विद्यार्थी व उनके पालकों में दिखाई दे रहा है। 

जिप स्कूलों में विद्यार्थियों की संख्या बढ़ाने के लिए राज्य सरकार द्वारा भी कई घोषणाएं की जाती हैं। लेकिन कॉन्वेंट स्कूलों की बढ़ती संख्या से जिला परिषद की प्राथमिक स्कूलों में विद्यार्थियों की संख्या सिकुड़ती जा रही है। रही सही कसर ऑनलाइन शिक्षा ने पूरी कर दी है।  जिला परिषद की तुलना में निजी स्कूलों में व्यवस्थापन व  शिक्षण की व्यवस्था काफी बेहतर है। कॉन्वेंट के साथ ही निजी स्कूलें लगातार बढ़ रही हैं। दूसरी ओर जिप स्कूलों में कहीं 10 तो कहीं 20 विद्यार्थी शिक्षा प्राप्त करते दिखाई दे रहे हैं। इनमें भी समस्याओं का प्रमाण अधिक है। 

विद्यार्थियों की लगातार घटती संख्या इन स्कूलों के लिए चिंता का सबब बन गई है। राज्य सरकार की ओर से सभी जिला परिषद स्कूलों में विद्यार्थियों की संख्या की रिपोर्ट मांगी गई थी। इससे पता चला कि जिले के 138 स्कूलों में 10 से कम जबकि 262 स्कूलों में 20 से कम विद्यार्थी शिक्षा ले रहे है। इस रिपोर्ट से इन स्कूलों में दी जाने वाली शिक्षा की गुणवत्ता पर सवाल उठने लगे है। नए शैक्षणिक सत्र में इन स्कूलों के द्वार खुलेंगे या नहीं इसको लेकर संकट दिखाई दे रहा है।