comScore

अब जिला परिषद की स्कूलों में होगा एक ही रंग का यूनिफार्म

अब जिला परिषद की स्कूलों में होगा एक ही रंग का यूनिफार्म

डिजिटल डेस्क, नागपुर। जिला परिषद के स्कूलों में इस वर्ष विद्यार्थियों को एक समान यानी एक रंग का गणवेश दिया जाएगा। शिक्षण समिति सभापति भारती पाटील ने बताया कि आमसभा में यह प्रस्ताव रखा जाएगा। आमसभा में प्रस्ताव को मंजूरी लेकर शालेय प्रबंधन समितियों के माध्यम से अमल किया जाएगा।

किया गया निधि का प्रावधान
 सरकारी स्कूलों में विद्यार्थी संख्या बढ़ाने के लिए समग्र शिक्षा अभियान अंतर्गत शालेय गणवेश, पोषण आहार, पाठ्यपुस्तकों का वितरण आदि योजनाएं चलाई जाती हैं। समग्र शिक्षा अभियान अंतर्गत अनुसूचित जाति, जनजाति व गरीबी रेखा के छात्र तथा सभी वर्ग की छात्राओं को शालेय गणवेश दिया जाता है, लेकिन ओबीसी तथा खुले वर्ग के छात्र समग्र शिक्षा अभियान अंतर्गत गणवेश योजना के लिए पात्र नहीं हैं। अब इनके लिए जिला परिषद के बजट में गणवेश उपलब्ध कराने के लिए निधि का प्रावधान किया गया है। जिला परिषद की आमसभा में एक समान गणवेश का प्रस्ताव रखा जाएगा। शालेय प्रबंधन समितियों को निधि हस्तांतरण कर आमसभा में मंजूर प्रस्ताव पर अमल किया जाएगा।

स्कूलों को नहीं  होगा गणवेश तय करने का अधिकार
जिप स्कूलों में तहसील तथा जिला स्तर पर होने वाले क्रीड़ा तथा सांस्कृतिक सम्मेलन में सभी स्कूलों के विद्यार्थी एक जगह आते हैं। स्कूल की अलग पहचान रखने के लिए पिछली सरकार ने स्कूलों को गणवेश तय करने के अधिकार दिए थे। अब जिला परिषद शिक्षण समिति ने सभी विद्यार्थियों का एक समान गणवेश का प्रस्ताव मंजूर किया है। आमसभा में इसे मंजूरी मिलने पर स्कूलों से गणवेश तय करने का अधिकार छिन जाएगा।
  
शालेय प्रबंधन समिति को खरीदने का अधिकार
विद्यार्थियों के गणवेश खरीदी के अधिकार शालेय प्रबंधन समिति को है। समग्र शिक्षा अभियान तथा जिला परिषद शेष फंड की रकम शालेय प्रबंधन समिति के खाते में जमा कराई जाएगी। समिति को अपने स्तर पर गणवेश खरीदी कर विद्यार्थियों को िवतरण करने के अधिकार हैं। गणवेश िवतरण की िरपोर्ट जिला परिषद को पेश की जाएगी।
 

कमेंट करें
3T7O2