comScore

ओमप्रकाश राजभर से मिले शिवपाल यादव, बढ़ गईं सियासी हलचलें

ओमप्रकाश राजभर से मिले शिवपाल यादव, बढ़ गईं सियासी हलचलें

डिजिटल डेस्क, वाराणसी। यूपी में बीजेपी सरकार की सहयोगी सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्‍यक्ष ओमप्रकाश राजभर और एसपी नेता शिवपाल यादव की मुलाकात से सियासी हलचल बढ़ गई है। वाराणसी के सर्किट हाउस में बंद कमरे में हुई मुलाकात के कई मायने निकाले जा रहे हैं। इसे वर्ष 2019 के चुनाव से जोड़कर देखा जा रहा है। हालांकि दोनों नेताओं ने इसे शिष्‍टाचार मुलाकात बताया है। मीटिंग के बाद दोनों नेता बाहर निकले तो उनके चेहरे पर मुस्‍कुराहट थी।

मीटिंग को लेकर गरमाई सियासत

बताया जा रहा है कि शिवपाल यादव ने ओमप्रकाश राजभर से गर्मजोशी से हाथ मिलाकर कहा, 'फिर मुलाकात होगी।' वाराणसी में इसके कई सियासी मायने निकाले जा रहे हैं। कयास लगाया जा रहा है कि बीजेपी को 2019 के चुनाव में पटखनी देने के लिए बनने वाले महागठबंधन में या तो एसबीएसपी को शामिल करने की तैयारी है या फिर पार्टी में दबदबा कम होने के चलते शिवपाल दूसरी पार्टी जॉइन कर सकते हैं। 

शिवपाल बोले शिष्‍टाचार मुलाकात थी

ओमप्रकाश राजभर का इस मुलाकात पर कहना है कि गरीबों और असहायों के हित के लिए आंदोलन में समाजवादी पार्टी और शिवपाल यादव ने उनका पहले कई बार साथ दिया है। ऐसे में अगर वह सर्किट हाउस में मौजूद थे तो मिलने में कोई हर्ज नहीं। उन्‍होंने महागठबंधन में जाने की चर्चा को अफवाह बताया। उन्होंने कहा, 'मैं भारतीय जनता पार्टी के साथ हूं औ 2024 तक रहूंगा। वहीं शिवपाल यादव ने इसे शिष्‍टाचार मुलाकात बताया और गठबंधन को लेकर किए गए सवाल पर उन्होंने कहा कि ओमप्रकाश राजभर से ही पूछिए तो बेहतर होगा। 

बता दें कि बीते काफी समय से ओमप्रकाश राजभर बीजेपी सरकार के खिलाफ बयानबाजी कर रहे हैं, ऐसे में यह मुलाकात अहम मानी जा रही है। पूर्व में अखिलेश यादव भी राजभर को लेकर कह चुके हैं कि वे गलत जगह पर हैं, उन्हें गठबंधन में आ जाना चाहिए। वहीं राजभर ने भी कहा कि अखिलेश के बंगले में तोड़फोड़ करने वाले मामले पर साथ दिया। 

कमेंट करें
BCEwo