दैनिक भास्कर हिंदी: आयुष्मान भारत योजना : नागपुर में इलाज कराने वाले दूसरे राज्य के मरीजों को भी मिलेगा लाभ

November 28th, 2018

डिजिटल डेस्क, नागपुर। आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए शुरू की गई आयुष्यमान भारत योजना का नागपुर में दूसरे राज्य के मरीजों को भी लाभ मिल सकेगा। नागपुर में आने वाले 8-10 दिन में इस योजना पर अमल शुरू हो जाएगा। फिलहाल महात्मा ज्योतिबा फुले योजना के पात्र लाभार्थियों को उपचार के लिए लाभ दिया जा रहा है। यह योजना राज्य तक सीमित है। नागपुर में उपचार कराने आने वाले दूसरे राज्यों के मरीजों को इसका लाभ नहीं मिल रहा है। आयुष्यमान भारत योजना अमल में आने पर दूसरे राज्य से उपचार के लिए नागपुर आने वाले मरीजों को आर्थिक सहायता उपलब्ध होगी।

ऐसी है योजना
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गरीबों को सरकारी सहायता से उपचार कराने के लिए आयुष्यमान भारत योजना शुरू की है। 1 अप्रैल 2018 को योजना का छत्तीसगढ़ से अमल शुरू हुआ। धीरे-धीरे संपूर्ण भारत में इसे अमल में लाने की प्रक्रिया जारी है। महाराष्ट्र में प्रायोगिक तौर पर योजना पर अमल शुरू किया गया है। सिर्फ महाराष्ट्र के मरीजों को इसका लाभ दिया जा रहा है। आयुष्यमान भारत केंद्र सरकार की योजना है। यह योजना पूरी कार्यक्षमता के साथ अमल में आने पर नागपुर में आने वाले दूसरे राज्यों के मरीज लाभान्वित हो सकेंगे।

बढ़ेगा लाभ का दायरा
महात्मा ज्योतिबा फुले जीवनदायी स्वास्थ्य योजना के दायरे में 971 बीमारियां हैं। पात्र लाभार्थी को डेढ़ लाख रुपए तक उपचार के िलए लाभ दिया जाता है। आयुष्यमान भारत योजना में 1242 बीमारियों से ग्रस्त मरीजों को इसका लाभ मिलेगा। 5 लाख रुपए आर्थिक सहायता का इस योजना में प्रावधान है।

किसे मिलेगा लाभ
सोशियो इकानॉमिक सेंसस-2011 के सर्वेक्षण में जो लोग आर्थिक रूप से कमजोर थे। उनकी सूची सरकार की ओर से जारी की गई थी। इस सूची में जिन परिवारों के नाम शामिल है, उन्हीं को आयुष्यमान भारत योजना का लाभ मिलेगा। मरीज को भर्ती करने पर उसका आधार कार्ड और राशन कार्ड वेरिफिकेशन कर योजना का लाभ दिया जाएगा।

पोर्टल का काम पूरा होने पर शुरू होगी योजना
आयुष्यमान भारत योजना के पोर्टल का काम चल रहा है। फिलहाल प्रायोगिक तौर पर महाराष्ट्र के मरीजों को योजना का लाभ दिया जा रहा है। पोर्टल का काम पूरा होने पर दूसरे राज्य के मरीजों को भी इसका लाभ मिलना शुरू होगा। आने वाले 8-10 दिन में काम पूरा होने की उम्मीद है।
-फनींद्र चंद्रा, रीजनल मैनेजर, महात्मा ज्योतिबा फुले जनआरोग्य योजना

खबरें और भी हैं...