बिजली प्रकल्प : प्लांट कोराड़ी के लिए मंजूर, जगह देखी रामटेक में

February 28th, 2022

डिजिटल डेस्क, नागपुर। आैष्णिक विद्युत केंद्र कोराड़ी में 660 मेगावॉट के दो यूनिट लगाना प्रस्तावित है, लेकिन हाल ही में विद्युत केंद्र के अधिकारियों ने रामटेक में जगह देखकर प्रारंभिक रिपोर्ट मुख्यालय को भेज दी। कोराड़ी का प्लांट रामटेक में हाईजैक करने के प्रयास के रूप में इसे देखा जा रहा है। 

मुख्यालय पर नजर : आैष्णिक विद्युत केंद्र कोराड़ी में फिलहाल 660 मेगावॉट के 3 व 210 मेगावॉट के 2 यूनिट चल रहे हैं, जबकि 105 मेगावॉट के 4 यूनिट बंद हो चुके हैं। 2017 में बंद पड़े यूनिट की जगह पर 660 मेगावॉट के दो यूनिट प्रस्तावित किए गए थे। कोराड़ी में जगह व पानी पहले से उपलब्ध है। पर्यावरण का भी क्लीयरेंस में मिला हुआ है। इसके अलावा यूनिट के लिए जरूरी आधारभूत सुविधाएं भी उपलब्ध हैं। एक वर्ष से रामटेक के नेता 660 मेगावॉट के दो यूनिट रामटेक तहसील में लगाने की मांग ऊर्जा विभाग व मुख्यालय से कर रहे है। महानिर्मिति के मुख्यालय से जगह का निरीक्षण करने का पत्र आैष्णिक विद्युत केंद्र कोराड़ी को मिला। आैष्णिक विद्युत केंद्र में पदस्थ अधीक्षक ने रामटेक तहसील के तहत आने वाले हेटीटोला में जगह का निरीक्षण किया। यहां जगह तो उपलब्ध है, लेकिन पानी व आधारभूत सुविधाओं की व्यवस्था करनी होगी। पर्यावरण से भी क्लीयरेंस लेना होगा। निरीक्षण करने के बाद मुख्यालय मुंबई को प्रारंभिक रिपोर्ट भी भेजी गई है।

प्रारंभिक रिपोर्ट भेज दी
आैष्णिक विद्युत केंद्र कोराड़ी के सूत्रों ने बताया कि मुख्यालय से पत्र मिलने के बाद रामटेक के  हेटीटोला में जगह देखी। जगह पर्याप्त है, लेकिन पानी व अन्य आधारभूत सुविधाओं की व्यवस्था करनी होगी। प्रारंभिक रिपोर्ट मुख्यालय को भेज दी गई है। कोराड़ी में जगह, पानी व आधारभूत सुविधाएं उपलब्ध हैं। 

कोराड़ी में हों दोनों यूनिट 
660 मेगावॉट के दो यूनिट कोराड़ी में प्रस्तावित हैं। चूंकि कोराड़ी  में जगह, पानी व आधारभूत सुविधाएं उपलब्ध हैं, ऐसे में इस प्लांट को अन्य जगह ले जाना उचित नहीं है। मुख्यमंत्री, ऊर्जा मंत्री व ऊर्जा विभाग के प्रधान सचिव को इस संबंध में निवेदन दिया गया है। रामटेक में जो जगह देखी गई है, उस पर हमारी आपत्ति है। कोराड़ी के प्लांट काे अन्यत्र ले जाने की कोशिश सफल नहीं हाेने दी जाएगी।