दैनिक भास्कर हिंदी: नशे की लत ने बना दिया चोर, मंदिर व दुकानों का तोड़ते थे ताला

March 16th, 2019

डिजिटल डेस्क,उमरिया। 10 दिन के भीतर दो मंदिर सहित एक दुकान में सेंधमारी लगा चुके अज्ञात दो चोर पुलिस के हत्थे लगे हैं। संदेह के आधार पर गुरुवार को पुलिस ने शारदा कॉलोनी निवासी रत्नेश पाण्डेय पिता कृष्णवतार (26) तथा रोहन उर्फ सनी बर्मन पिता बाबू लाल बर्मन (28) निवासी बांधवगढ़ होटल के पीछे मढ़ी बाग एरिया से उठाया। मौके पर ही दोनों के पास चाकू व लोहा कटर आरी मिली। पुलिस ने सख्ती से पूछताछ की और वारदात का खुलासा हो गया। पुलिस अनुसार रत्नेश और रोहन दोनों नशेड़ी प्रवत्ति के युवक हैं। गांजा, स्मैक, अफीम जैसे हाईटेक महंगे नशा करने के आदी हैं। अपनी जरुरतें पूरा करने के लिए उन्होंने चोरी कर कम समय मे अमीर बनने का सपना देखा था। लिहाजा एक के बाद एक दो चोरियों को अंजाम दिया। इस बार पुलिस पहले से मुस्तैद रही और दोनों पुलिस के हत्थे चढ़ गए। आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायालय पेश कर दिया ।
10 दिन के भीतर दूसरी वारदात
दोनों चोरों द्वारा पहली घटना 5 मार्च को शारदा कॉलोनी स्थित शारदा मंदिर में दानपेटी व पीतल का घण्टा चोरी कर अंजाम दिया गया था। इसके बाद 10 वें दिन 14 मार्च को बस स्टैण्ड स्थित कम्प्यूटर हार्डबेयर में ताला तोड़ा। यहां से तकरीबन 51000 के कम्प्यूटर पाट्र्स गायब किए गए थे। दोनों घटनाओं को पुलिस अधीक्षक ने गंभीरता से लिया। एसडीओपी व टीआई राकेश उइके के नेतृत्व में एक टीम गठित की गई और इन्हें सफलता मिली।
पहले रेकी फिर तोड़ते थे ताला
पुलिस अधीक्षक सचिन शर्मा ने बताया ये दोनों वारदात को अंजाम देने से पहले इलाके की अच्छी तरह रैकी करते थे। एक दिन पहले टारगेट चिन्हित कर रात में करीब 2-4 के बीच एक व्यक्ति लोगों पर नजर रखता दूसरा ताला तोड़कर भीतर से माल पार करता था। चूंकि दोनों कोतवाली क्षेत्र के ही निवासी हैं इसलिए उन्हें आसपास की गतिविधियां का अच्छी तरह ज्ञान था।
जब्त हुआ सामान
खुलासा करते हुए पुलिस ने बताया कि आरोपियों के पास से लोहा काटने की आरी तथा दोनों के पास चाकू मिले हैं। मढ़ीबाग से दोनों को पकडऩे के बाद जैसे ही पुलिस ने कोतवाली में सख्ती से पूछताछ की। आरोपियों ने अपना गुनाह कबूल कर लिया। चोरी गया पूरा सामान भी पुलिस के सुपुर्द कर दिया। कार्रवाई के दौरान थाना प्रभारी राकेश उइके, एएसआई कोमल दीवान,अब्दुल सलीम, वीरेन्द्र सिंह, जितेन्द्र सिंह, गणेश्वर सिंह, सरमन सेन ने अहम भूमिका निभाई।