दैनिक भास्कर हिंदी: अग्रसेन मंडल चुनाव: बोगस मतदान को लेकर हंगामा, रोकना पड़ा मतदान

October 29th, 2018

डिजिटल डेस्क, नागपुर। श्री अग्रसेन मंंडल की कार्यकारिणी के चुनाव में बोगस मतदान को लेकर हुए हंगामे के बाद मतदान रोक दिया गया। इस संबंध में पांच घंटे से अधिक चली बैठक के बाद चुनाव अधिकारियों ने पुनर्मतदान की घोषणा की। पुनर्मतदान की तारीख और समय तय नहीं है। श्री अग्रसेन मंंडल की कार्यकारिणी के चुनाव के लिए सुबह 8 बजे चुनाव अधिकारियों की निगरानी में उत्साहपूर्ण माहौल में मतदान शुरू हुआ। मतदान को लेकर मतदाता काफी उत्साहित नजर आए। पुरुषों के साथ समाज की महिलाओं ने भी मतदान में बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। दोपहर को कलश पैनल के कार्यकर्ताओं ने बोगस मतदान का आरोप लगाते हुए हंगामा खड़ा कर दिया। उन्होंने इसकी शिकायत चुनाव अधिकारियों से भी की। 

एक पैनल पुनर्मतदान पर आैर दूसरा मतदान जारी रखने पर अड़ा रहा
कलश पैनल के सदस्यों ने बोगस मतदान का आरोप लगाते हुए पुनर्मतदान  की मांग की, जबकि तराजू पैनल के सदस्य मतदान जारी रखने पर अड़े रहे।  दोनों ओर से आरोप-प्रत्यारोप के बीच हंगामा बढ़ने पर चुनाव अधिकारियों ने शाम करीब 4 बजे मतदान रोक दिया। मुख्य चुनाव अधिकारी एड. भरतभूषण मेहाडिया, सहायक चुनाव अधिकारी अश्विन अग्रवाल तथा आशीष अग्रवाल ने तराजू, कलश तथा शंख पैनल के सदस्यों के साथ बैठक ली जो पांच घंट से अधिक चली। सभी पैनल की बातें सुनने के बाद चुनाव अधिकारियों ने पुनर्मतदान की घोषणा की। हालांकि उन्होंने पुनर्मतदान की तारीख की घोषणा नहीं की है।  

पोस्टरों से पट गया अग्रसेन चौक
अग्रसेन चौक तराजू पैनल, कलश पैनल के पोस्टरों से पटा हुआ था। पैनल के कार्यकर्ता मतदाताओं को मतदान के लिए मदद में जुटे हुए थे। डागा हाॅस्पिटल की ओर जाने वाले मार्ग पर दोपहिया और चौपहिया वाहनों की लंबी कतार के कारण यातायात पुलिसकर्मियों को काफी मशक्कत का सामना करना पड़ा।

कलश और तराजू पैनल में आरोप-प्रत्यारोप
तराजू पैनल का आरोप है कि कलश पैनल ने अपनी हार को देखते हुए मतपेटी से छेड़खानी की। डाले गए मतों को निकाला और फाड़ दिया। सील की गई मतपेटियों के अंदर पानी व चाय डाल दी, ताकि मतपत्र खराब हो जाएं। साथ ही कलश पैनल के कहने पर बगैर तराजू पैनल की सहमति के बिना पुनर्मतदान का निर्णय निर्वाचन मंडल ने लिया है। इसे रद्दकर मतदान को पुन: शुरू किया जाए। दूसरी ओर कलश पैनल का कहना था कि उन्होंेने मतों या मत पेटियों से कोई छेड़छाड़ नहीं की है। तराजू पैनल वाले जानबूझकर उनकी जीत को देखकर मुद्दा बना रहे हैं। उन्होंने सिर्फ काउंटर स्लिप ही देखी है और उठाई है। तराजू पैनल ने रात करीब 9 बजे मुख्य निर्वाचन अधिकारी को लिखित मंे शिकायत दी है।