कवायद: यात्रियों की सुविधा के लिए चंद्रपुर में दौड़ेेंगे निजी वाहन

November 12th, 2021

डिजिटल डेस्क, चंद्रपुर। परिवहन महामंडल के कर्मचारियों द्वारा जारी बंद की तर्ज पर जिले में यात्रियों को असुविधा न हो उन्हें सुचारु परिवहन व्यवस्था प्रदान करने के लिए विभिन्न संगठनों के साथ  अपर जिलाधिकारी विद्युत वरखेड़कर ने चर्चा की। सभी संगठनों के प्रतिनिधियों ने प्रशासन को यात्रियों के हित में सहयोग का आश्वासन दिया। बैठक में अपर पुलिस अधीक्षक अतुल कुलकर्णी, विभागीय नियंत्रक स्मिता सुतावणे, यातायात विभाग के रंजीत घोडमारे, परिवहन कार्यालय के आनंद मेश्राम, पुलिस निरीक्षक विशेष शाखा रवींद्र शिंदे व स्कूल बस प्रतिनिधि जोशना गुंडे, महेश गौरकर निजी बस चालक संगठन के प्रतिनिधि एवं अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।

एसटी हड़ताल की पृष्ठभूमि में कल जिले में विभिन्न मार्ग पर करीब 253 निजी बसें चल रही थीं। भीड़भाड़ वाले मार्ग पर वर्तमान में उपलब्ध निजी बसों और अन्य वाहनों की तुलना में, सड़क और दूरदराज के इलाकों में यात्रियों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। जहां अपेक्षा से कम निजी वाहन चल रहे हो वहां समन्वय कर वाहन उपलब्ध कराने के निर्देश बैठक में अपर जिलाधिकारी विद्युत वरखेड़कर ने दिए। हड़ताल के कारण यात्रियों को किसी प्रकार की असुविधा न हो और यातायात को नियंत्रित करने के लिए उपप्रादेशिक परिवहन अधिकारी कार्यालय ने चंद्रपुर में नियंत्रण कक्ष स्थापित किया है। बैठक में मार्ग का नाम, यात्रियों के लिए उपलब्ध यात्रा सेवाएं और समय तय किया गया है।

5 कर्मचारियों को किया निलंबित 
गुरुवार को फिर से 5 कर्मचारियों को निलंबित किया गया है। यह सभी पांचों कर्मी चंद्रपुर डिपो में कार्यरत थे। अब तक चंद्रपुर डिपो के सर्वाधिक दस, राजुरा डिपो के 5, चंद्रपुर विभागीय कार्यशाला के 4, विभागीय डिपो का 1, चिमूर डिपो के 5, वरोरा डिपो के 9, इस प्रकार कुल 34 कर्मचारी निलंबित किए हैं। एसटी महामंडल को राज्य सरकार में विलय करने की मांग को लेकर जारी हड़ताल बस कर्मियों ने 15वें दिन भी जारी रखी। चंद्रपुर विभागीय कार्यालय में सतंप्त कर्मचारियों ने आंदोलन कर कृति समिति का निषेध किया। कर्मचारियों ने कहा कि, जब तक एसटी महामंडल का राज्य सरकार में विलय नहीं होता तब तक आंदोलन जारी रहेगा। उधर एसटी की हडताल के चलते यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।