दैनिक भास्कर हिंदी: सबसे लंबे इस फ्लाईओवर को लेकर सस्पेंस, विरोध का असर

March 21st, 2018

डिजिटल डेस्क, नागपुर। शहर के सबसे लंबे इंदोरा से सक्करदरा तक प्रस्तावित फ्लाई आेवर को लेकर सस्पेंस बना हुआ है। केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्रालय के निर्देश पर एनएचए ने डीपीआर तैयार कर मुख्यालय भेजा गया लेकिन अब स्थानीय विरोध को देखते हुए यह फ्लाईआेवर अब बनेगा या नहीं यह कह पाना मुश्किल हो गया है। शहर के इस सबसे लंबे फ्लाईआेवर का काम आगे बढ़ाने के लिए एनएचए वर्तमान  पांचपावली फ्लाईआेवर तोड़नेवाला था, लेकिन अब उसने काम रोक दी है।  कुल मिलाकर प्रस्ताव ही खटाई मेंं जाता दिख रहा है।

ऐसे बढ़ती गई लंबाई
केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्रालय ने इंदोरा से कमाल चौक फ्लाईआेवर बनाने का फैसला लिया था। गोलीबार चौक से चिटणीसपुरा तक भीड़-भाड़ रहने से इस फ्लाई आेवर को यहां तक बढ़ाने का निर्णय हुआ था। इसके बाद चिटणीसपुरा चौक से अशोक चौक तक फ्लाई आेवर लाने का निर्णय हुआ। इस रास्ते पर दौड़नेवाले यातायात को देखते फ्लाईआेवर रेशमबाग तक बढ़ाने का प्रस्ताव आया। रेशमबाग से भांडे प्लाट तक पहले से फ्लाईआेवर बना हुआ है। इंदोरा से सक्करदरा भांडे प्लाट तक फ्लाई आेवर की लंबाई 6.2 किमी हो रही है, जो शहर का सबसे लंबा फ्लाईआेवर हो सकता है। 

दुकानदारों ने किया विरोध
अग्रसेन चौक से अशोक चौक तक बनाए जानेवाले फ्लाई आेवर का स्थानीय दुकानदारों ने विरोध किया। विरोध के बावजूद केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्रालय के आदेश पर एनएचए ने पिछले साल इसका डीपीआर बनाकर मुख्यालय दिल्ली भेजा। यहां से यह डीपीआर मंत्रालय की तकनीकी एक्सपर्ट कमेटी को भेजा गया। मंत्रालय से इस संबंध में एनएचए नागपुर को कोई आदेश मिलता, इसके पूर्व ही विरोध के स्वर मंत्रालय तक पहुंचे।  स्थानीय लोगों ने कारोबार चौपट होने का वास्ता देकर इस फ्लाई आेवर को नहीं बनाने का अनुरोध केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितीन गडकरी से किया।  

ठंडे बस्ते में गया काम
सूत्रों के अनुसार, एनएचए वर्तमान पांचपावली फ्लाईआेवर को तोड़कर नया बनानेवाली थी। यह 30 साल पुराना फ्लाई ओवर एनएचए के मानकों पर खरा नहीं उतर रहा। जब अब फ्लाई आेवर बनाने का काम ही ठंडे बस्ते में गया तो एनएचए पांचपावली फ्लाई आेवर को तोड़कर अपनी ऊर्जा व निधि खर्च नहीं करना चाहती। 
पांचपावली फ्लाईआेवर 

पहले तोड़ने वाले थे
इंदोरा से सक्करदरा तक प्रस्तावित फ्लाई आेवर का काम शुरू होने पर हम पांचपावली फ्लाई आेवर तोड़कर नया बनानेवाले थे। चूंकि अब इंदाेरा से सक्करदरा फ्लाई आेवर का मामला ठंडा पड़ा है, इसलिए हम पांचपावली फ्लाई आेवर नहीं तोड़ेंगे। इस बारे में और अधिक बोलना ठीक नहीं है।  
-एम. चंद्रशेखर प्रोजेक्ट आफिसर, रिजनल आफिस एनएचए नागपुर.