• Dainik Bhaskar Hindi
  • State
  • Punjab Assembly Election 2022 Tension continues between Captain Amarinder Singh and Navjot Singh Sidhu

दैनिक भास्कर हिंदी: विधानसभा चुनाव 2022: पंजाब में कांग्रेस में अंतर्कलह बरकरार, कैप्टन और सिद्धू के बीच खीचतान जारी

July 3rd, 2021

डिजिटल डेस्क, अमृतसर। पंजाब में कांग्रेस में सियासी खींचतान खत्म नहीं हुई है। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और विधायक नवजोत सिंह सिद्धू आमने-सामने हैं। जहां सिद्धू ने पंजाब में बिजली की समस्या को लेकर अमरिंदर सरकार को जिम्मेदार बताया है तो वहीं इस आरोप पर अमरिंदर ने जवाबी हमला करते हुए कहा कि सिद्धू खुद डिफॉल्टर रहे हैं और उन्होंने अपने बिलों का भुगतान नहीं किया है।

सिद्धू ने बिजली कटौती को लेकर पंजाब में अपनी ही सरकार का मजाक उड़ाया और सरकार से उत्पादन कंपनियों को सब्सिडी देने के आप के दिल्ली मॉडल का पालन करने को कहा। प्रियंका गांधी वाड्रा और राहुल से मुलाकात करने वाले सिद्धू ने कहा, पंजाब में बिजली कटौती या मुख्यमंत्री के लिए कार्यालय समय या आम लोगों के एसी के उपयोग को विनियमित करने की कोई आवश्यकता नहीं है। अगर हम सही दिशा में कार्य करते हैं।

गांधी ने 30 जून को नई दिल्ली में अलग से मुलाकात की और उन्हें पंजाब की राजनीतिक स्थिति से अवगत कराया, जहां अगले साल की शुरूआत में चुनाव होंगे। पंजाब कांग्रेस के असंतुष्ट नेता ने बुधवार को प्रियंका और राहुल से अलग-अलग मुलाकात की और ऐसी अटकलें हैं कि प्रियंका गांधी ने सिद्धू को पंजाब कांग्रेस प्रमुख बनाने का सुझाव दिया है, लेकिन मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और पार्टी के कुछ अन्य गुट इस फॉर्मूले को स्वीकार नहीं कर रहे हैं।

सिद्धू को संगठन में शीर्ष पर रखने के लिए प्रियंका गांधी द्वारा जाहिर तौर पर सुझाए गए फॉमूर्ले का राहुल गांधी ने समर्थन नहीं किया है और पूर्व कांग्रेस प्रमुख मुख्यमंत्री को सार्वजनिक रूप से निशाना बनाने के लिए सिद्धू से नाराज हैं। सूत्रों ने कहा कि पंजाब कांग्रेस के नेता सिद्धू को कार्यकारी अध्यक्ष के रूप में स्वीकार कर सकते हैं, लेकिन एक पूर्ण राज्य इकाई के प्रमुख के रूप में नहीं, क्योंकि मुख्यमंत्री राज्य कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में एक गैर-सिख चेहरा रखने के इच्छुक हैं।

हालांकि कांग्रेस के पंजाब प्रभारी हरीश रावत ने उम्मीद जताई कि अगले सप्ताह के आसपास इस मुद्दे को सुलझा लिया जाएगा। लेकिन अमरिंदर सिंह हार मानने वाले नहीं हैं क्योंकि उन्होंने गुरुवार को दोपहर के भोजन के लिए समर्थन करने वाले विधायकों को चंडीगढ़ में बुलाया और उनके समर्थन में रैली कर रहे हैं और सिद्धू के हर कदम को रोकने की कोशिश कर रहे हैं।

इस कदम ने कथित तौर पर पार्टी आलाकमान को परेशान कर दिया है, जो इसे शक्ति प्रदर्शन के रूप में देखते हैं, खासकर जब कांग्रेस द्वारा पंजाब मुद्दे को देखने के लिए गठित पैनल ने कहा है कि मुख्यमंत्री को हटाने का कोई सवाल ही नहीं है। बुधवार को राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के साथ उनकी बैठकों के दौरान क्या हुआ, इसके बारे में सिद्धू चुप हैं, ना ही कांग्रेस ने दोनों पार्टियों को शांत करने के लिए कोई आधिकारिक बयान दिया है।

सूत्रों ने कहा कि कांग्रेस ने मल्लिकार्जुन खड़गे के नेतृत्व में एक समिति का गठन किया था, जिसने अपनी रिपोर्ट सोनिया गांधी को सौंप दी थी और यहां तक कि मुख्यमंत्री भी उनसे मिलने के लिए दो बार दिल्ली आए थे, लेकिन समिति द्वारा बुलाए जाने पर सिद्धू उनसे नहीं मिले और कॉल का जवाब भी नहीं दिया। समिति ने अपनी रिपोर्ट में सुझाव दिया है कि चुनाव से पहले सिद्धू को एक महत्वपूर्ण भूमिका दी जाए, लेकिन मुख्यमंत्री सिद्धू को एक मंत्री के रूप में समायोजित करने के लिए तैयार नहीं हैं, जो सिद्धू को स्वीकार्य नहीं है जो चुनाव से पहले एक बड़ी भूमिका चाहते हैं।