comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

पीडब्ल्यूडी का अजीबोगरीब कामकाज, सालों से न पदोन्नति और न वेतनवृद्धि

पीडब्ल्यूडी का अजीबोगरीब कामकाज, सालों से न पदोन्नति और न वेतनवृद्धि

डिजिटल डेस्क, नागपुर। सार्वजनिक निर्माणकार्य विभाग (पीडब्ल्यूडी) के विद्युत विभाग में मजदूर के रूप में लगे कर्मचारियों की अजीब दास्तान है। विभाग में एक बार इस पद पर नियुक्ति होने के बाद संबंधित कर्मचारी जिंदगी भर उसी पद का होकर रह जाता है। मजदूरों के अनुभव को देखते हुए उन्हें सर्विस रिकार्ड में तारतंत्री दर्शाया गया, लेकिन  उन्हें न तो पदोन्नति का लाभ दिया गया और न वेतनवृद्धि का। सेवानिवृत्ति की उम्र 60 होने के बावजूद उन्हें 58 में सेवानिवृत्त किया जा रहा है।  पेंशन का कोई प्रावधान नहीं है। 

कुछ माह मिला वेतनवृद्धि का लाभ  
कर्मचारी संगठनों के संघर्ष और सरकार से लगातार पत्र-व्यवहार के बाद शासन आदेश पर दो बार इन्हें वेतनवृद्धि देने का निर्णय हुआ। कुछ महीने तक इन्हें वेतनवृद्धि का लाभ भी मिला, लेकिन बाद में आदेश में गलती बताते हुए विभाग ने जितने महीने वेतनवृद्धि का लाभ दिया, वह छीन लिया। नागपुर सहित राज्य में ऐसे सैकड़ों कर्मचारी हैं, जो इस अन्याय के खिलाफ आवाज बुलंद किए हुए हैं। लेकिन सरकार से लेकर विद्युत विभाग के सभी बड़े अधिकारी इस पर चुप्पी साधे हुए हैं। मुख्य अभियंता संदीप पाटील, अधीक्षक अभियंता हेमंत पाटील, कार्यकारी अभियंता मनीष पाटील इन कर्मचारियों की पीड़ा सुनने समय तक नहीं दे रहे हैं। इसके खिलाफ विदर्भ प्रदेश विद्युत विभाग कर्मचारी संगठन नागपुर ने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। 

कोर्ट का दरवाजा खटखटाया  
विद्युत विभाग में मजदूर के रूप में लगे कर्मचारियों से लगातार अन्याय हो रहा है। अधिकारी बार-बार नियमों को ताक पर रखकर कर्मचारियों का शोषण कर रहे हैं। इस संबंध में मुख्य अभियंता संदीप पाटील, अधीक्षक हेमंत पाटील, कार्यकारी अभियंता मनीष पाटील से पत्र-व्यवहार कर मिलने का समय मांगा है, लेकिन वे किसी तरह का प्रतिसाद नहीं दे रहे ंहै। इसलिए कर्मचारियों को न्याय के लिए कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है।  -सुरेश गेडाम, सचिव, विदर्भ प्रदेश विद्युत विभाग कर्मचारी संगठन नागपुर 

लंबी लड़ाई का नतीजा अभी तक सिफर 
पीडब्ल्यूडी के विद्युत विभाग में ऐसे सैकड़ों कर्मचारी हैं, जिन पर बरसों से अन्याय हो रहा है। ये सभी कर्मचारी (मजदूर) पीडब्ल्यूडी विभाग में नियुक्त हुए थे। नियमानुसार 5 साल के अनुभव के बाद इन्हें रूपांतरित अास्थापना (सीआरटी) पर लिया गया। सरकार ने एक परिपत्रक भी निकाला, जिसमें कहा गया था कि काम अनुसार हुद्दा (पद) और काम अनुसार वेतन दिया जाए। इसके बाद कुछ कर्मचारियों को सर्विस रिकार्ड में इन्हें विद्युत सहायक तारतंत्री यानी वर्ग-3 में दर्शाया गया, लेकिन वेतन मजदूरों का ही दिया गया। इसे लेकर संगठन ने सरकार से लंबी लड़ाई लड़ी। जिसके बाद सरकार ने इन्हें दो बार वेतनवृद्धि देने का आदेश दिया। इस अनुसार वर्ष 2000 में 12 साल का वेतन  और वर्ष 2003 में वायरमैन के रूप में वेतनवृद्धि देने का परिपत्रक निकाला गया। लेकिन तत्कालीन कार्यकारी अभियंता ने कर्मचारियों को दी गई वेतनवृद्धि वापस लेते हुए उन्हें दिए गए वेतन की वसूली करने का आदेश दिया। 

पर जवाब नहीं मिला
इसे लेकर संगठन ने अभियंता को पत्र देकर पूछा कि वेतन कटौती क्यों की गई? लेकिन आज तक इस पत्र का जवाब नहीं दिया गया। अब फिर 2000 में 24 वर्ष आश्वासित प्रगति योजना के लाभ की वसूली सेवानिवृत्ति के बाद कटौती की है। विशेष यह कि सेवानिवृत्ति की उम्र 60 वर्ष होने के बावजूद सभी को 58 वर्ष में सेवानिवृत्त किया जा रहा है। सरकार और प्रशासन के बार-बार बदलते इस फैसले कर्मचारी मानसिक रूप से परेशान हैं। इस संबंध में किए जा रहे पत्र-व्यवहार का तक कोई जवाब नहीं मिल रहा हैं।
 

कमेंट करें
qzPlr
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।