दैनिक भास्कर हिंदी: EVM को लेकर उठे सवाल, लगे लापरवाही के आरोप

March 29th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। पूरे देश में चुनावी माहौल गरमाया हुआ है । प्रत्याशी   प्रचार में जुट गए हैं इस बीच नागपुर-रामटेक लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के लिए विविध क्षेत्रों में ले जाकर रखी गई ईवीएम को लेकर सवाल उठाया गया है। कांग्रेस उम्मीदवार नाना पटोले ने कहा है कि जिन स्थानों पर ईवीएम ले जाकर रखी गई, वहां ईवीएम लोड करते समय सीसीटीवी कैमरे शुरू रखे जाने चाहिए थे, लेकिन कुछ स्थानों पर ऐसा नहीं हुआ। स्टोरेज का वीडियाे दिखाते हुए पटोले ने बताया कि इस मामले की शिकायत निर्वाचन आयोग से की गई है। फिलहाल यह तो नहीं कहा जा सकता है कि ईवीएम से छेड़छाड़ हुई है, लेकिन जो लापरवाही सामने आई है, उसकी जांच होनी चाहिए। यह सत्ता के दुरुपयोग का मामला लग रहा है। 

मध्य व दक्षिण नागपुर का मामला
 प्रेस कांफ्रेंस में पटोले ने बताया कि मध्य नागपुर के बचत भवन व दक्षिण नागपुर के पंचायत भवन में ईवीएम रखे जाने के दौरान यह लापरवाही सामने आई है। कुछ कैमरों को बंद रखे जाने पर संदेह होना स्वाभाविक है। पटोले ने यह भी कहा कि कांग्रेस में एकजुटता है। कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को दूसरे उम्मीदवार फोन करके सहयोग का आह्वान कर रहे हैं। प्रेस कांफ्रेंस में कांग्रेस के शहर अध्यक्ष विकास ठाकरे व अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।

जिला निर्वाचन अधिकारी ने कहा- दोषियों पर कार्रवाई करेंगे 
जिला निर्वाचन अधिकारी व जिलाधीश अश्विन मुदगल ने कहा कि  ईवीएम रखे   स्ट्रांग रूम में सीसीटीवी शुरू थे। कुछ समय के लिए डिस्प्ले बंद था। इस संबंध में आई शिकायत की जांच होगी। सीसीटीवी डिस्प्ले बंद होने के संबंध में इसके पहले भी एक शिकायत मिली थी, जिसे दूर कर लिया गया था। भाजपा उम्मीदवार नितीन गडकरी द्वारा नामांकन के दिन सभा लेने संबंधी शिकायत जांच के लिए पुलिस को भेज दी गई है। 

तकनीकी समस्या
श्री मुद्गल ने जिलाधीश कार्यालय के बचत भवन में पत्रकारों से कहा कि कांग्रेस उम्मीदवार नाना पटोले ने स्ट्रांग रूम के सीसीटीवी बंद होने की शिकायत की है। यहां सीसीटीवी शुरू थे आैर अभी भी शुरू हैं। कुछ समय के लिए डिस्प्ले बंद हो गया था। यह तकनीकी समस्या है, पर पूरे मामले की जांच की जाएगी। 

नागपुर क्षेत्र के लिए भी पुलिस आब्जर्वर नियुक्त होगा
उन्होंने कहा कि नामांकन के दिन श्री गडकरी द्वारा सिविल लाइन्स में सभा करने के संबंध में शिकायत मिली है। प्राथमिक तौर पर ऐसा लगता है कि पुलिस से अनुमति ली गई थी। बावजूद इसके यह मामला जांच के लिए पुलिस के पास भेजा गया है। जिले में 4382 पोलिंग स्टेशन हैं, जिसमें से 2037 नागपुर व 2235 रामटेक लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में हैं। ईवीएम का फर्स्ट व सेकंड रैंडमाइजेशन हो चुका है, तीसरा भी शीघ्र होगा।

जिले में 2 चुनाव निरीक्षक (खर्च) की नियुक्ति हो चुकी है, जो भारतीय राजस्व सेवा के अधिकारी हैं। 2 आब्जर्वर भी नियुक्त हुए हैं। रामटेक के लिए पुलिस आब्जर्वर की नियुक्ति हुई है। शीघ्र ही नागपुर लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के लिए भी पुलिस आब्जर्वर नियुक्त होगा। इस दौरान अतिरिक्त जिलाधीश श्रीकांत फडके, उप जिला निर्वाचन अधिकारी राजलक्ष्मी शाह, प्रशांत काले व जिला सूचना अधिकारी अनिल गडेकर उपस्थित थे। 
 

खबरें और भी हैं...