comScore

चंद्रपुर से गरजे राहुल, कहा-कांग्रेस के वादे जुमले नहीं, सारे वादे पूरे होंगे

चंद्रपुर से गरजे राहुल, कहा-कांग्रेस के वादे जुमले नहीं, सारे वादे पूरे होंगे

डिजिटल डेस्क, चंद्रपुर,वर्धा। राफेल, नोटबंदी, कर्जमाफी जैसे अनेक मुद्दों पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तीखे तेवर में अनेक आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि याद कीजिए 2014 का चुनाव। उस समय हर भाषण में प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी ने हर नागरिक के बैंक अकाउंट में 15  लाख रुपए डालने की बात कही थी, परंतु किसी को भी 10  रुपए नहीं मिले। उनका आइडिया अच्छा था, लेकिन 15  लाख का वादा झूठा था। जबकि मोदी एक के बाद एक हिंदुस्तान के चोरों को उनके बैंक अकाउंट में सीधा पैसा दे रहे हैं। नीरव मोदी को 35000  करोड़, विजय माल्या को 10000 करोड़, अनिल अंबानी 45000 करोड़ रुपए दिए। हमने एक अर्थशास्त्री व कांग्रेस के थींक टैंक से पूछा कि अगर हम चाहें कि हिंदुस्तान के 20  प्रतिशत अत्यंत गरीब लोगों के बैंक अकाउंट में हर महिना पैसा डालें तो कितना डाल सकते हैं ? क्या यह किया जा सकता है ? अनुसंधान कर हमें नंबर दें। लेकिन इसका भी ख्याल रखें कि देश की अर्थव्यवस्था नष्ट न हों। उन्होंने 5 से  6 महिने काम करने के बाद हमारे पास आये और एक कागज पर उन्होंने मुझे एक नंबर लिखकर दे दिया। कागज पर लिखा था 72000 रुपए हर साल। यह राशि जुमला नहीं है। यदि कांग्रेस सत्ता में आती है कि इस वादे को किसी भी सूरत में पूरा किया जाएगा।

उद्योगपतियों का कर्ज माफ किया
स्थानीय चांदा क्लब ग्राउंड पर आयोजित जाहिर सभा को वे संबोधित कर रहे थे। इस समय प्रदेशाध्यक्ष अशोक चव्हाण समेत चंद्रपुर एवं गड़चिरोली के कांग्रेस के सभी पदाधिकारी मंच पर मौजूद थे। राहुल गांधी ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के 15  उद्योगपतियों का कर्ज माफ किया है। परंतु वे देश के गरीब किसानों के गिड़गिड़ाने पर भी उनका कर्ज माफ नहीं कर पाए। विदर्भ समेत महाराष्ट्र के सभी जिलों में किसान आत्महत्या रुक नहीं पाई। फसल को उचित दाम देने का उनका वादा खोखला साबित हुआ है। जबकि 6 एयरपोर्ट मोदी ने अदानी को दे दिये। देश में पैसों की कमी नहीं है। परंतु किसान या गरीबों के कल्याण के लिए जब मांग उठती हैं तो उन्हें दरकिनार किया जाता है। दुनिया के सबसे बड़ी डिफेंस का ठेका उस निजी कंपनी को दे दिया, जिसने कभी कागज का भी हवाई जहाज नहीं बनाया। नरेंद्र मोदी अंबानी को भाई कहते हैं और जनता को मित्र कहकर संबोधित करते हैं। उनका अधिक प्रेम भाई से हैं, मित्रों से नहीं।

किसानों व बेरोजगारों के लिए नई नीति पर होगा काम

नोटबंदी से किसी को फायदा नहीं हुआ। जिनके पास काला धन रखा था वे कभी बैंकों की कतारों में नजर ही नहीं आए। जितना काला धन तक वह सफेद कर लिया गया। यदि कांग्रेस सत्ता में आएगी तो वह किसानों के लिए रेलवे की तरह अलग से बजट तैयार करेगी। कर्ज लेने वाले उद्योगपतियों को मोदी सरकार ने कभी जेल नहीं भेजा। परंतु गरीब किसान यदि समय पर कर्ज नहीं चुका पाया तो उसे जेल भेजा जाता है। कांग्रेस इस नियम को बदल देगी। किसानों को लोन के लिए जेल भेजने के नियम पर पाबंदी लगाएंगे। बेरोजगारों को नए उद्योग के लिए विभिन्न विभागों के चक्कर काटकर अनुमति व प्रमाणपत्र पाने भ्रष्टाचार का शिकार होना पड़ता है। अब आगे ऐसा नहीं होगा। उद्योग लगाने के लिए 3 वर्षों तक किसी से कोई अनुमति नहीं लेना होगा। हम नया नियम बनाएंगे कि यदि कोई नया उद्योग शुरू करेगा तो उसे 3 वर्ष बाद ही सारी अनुमति एवं आवश्यक प्रक्रियाओं से गुजरना पड़े। हिंदू धर्म में गुरू का काफी महत्व हैं। अपने राजनीतिक गुरु को प्रणाम न करने वाले नरेंद्र मोदी ने उनका अपमान ही किया है। हम सत्ता में लौटेंगे तो 2 करोड़ नहीं, बल्कि हर साल 22 लाख सरकारी नौकरियां देंगे। स्थानीय पंचायतों में हर साल 10  लाख बेरोजगारों को नौकरियां उपलब्ध कराएंगे। कड़ी धूप और भीषण गर्मी के बावजूद चांदा क्लब ग्राउंड पर हजारों की संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता एवं नागरिकों की उपस्थिति रही। 

प्रधानमंत्री ने अंबानी की चौकीदारी की 

चंद्रपुर के पश्चात राहुल गांधी वर्धा पहुंचे। यहां पर उन्होंने कहा कि पूरे पांच वर्ष में किसानों से मिलने मोदी कभी नहीं आए,अंबानी के साथ फ़्रांस में राफेल डील के लिए जरूर गए। पूरे पांच वर्ष मोदी ने अंबानी की चौकीदारी  की ।   वे वर्धा लोकसभा निर्वाचन क्ष्रेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी एन्ड चारुलता टोकस के प्रचार के लिए शहर के स्वावलंबी मैदान पर आयोजित जनसभा को संबोधित कर रहे थे इस समय मंच पर सुरेश देशमुख, वीरेंद्र जगताप, नसीम खान, शेखर शेंडे, अतुल लोढ़े, डॉ राजेन्द्र गवई, सुधीर कोठारी, आशोक चव्हाण , राजू शेटी, अनंत घाराड़ सहित बड़ी संख्या में कांग्रेस के पदाधिकारी व कार्यकर्ता उपस्थित थे। राहुल गांधी ने आगे कहा कि,  राफेल डील हमने 526 करोड़ रूपये में की थी जो और पूरे भारत में बनने वाली थी किंतु प्रधनमंत्री मंत्री फ्रांस जाकर  एक राफेल 16 सौ करोड़ रुपये में खरीदी किया है। इससे अम्बानी को फायदा पहुंचाने का काम उन्होंने किया है। पूरे पांच वर्ष  उन्होंने अम्बानी की चौकीदारी की है।

कमेंट करें
CaVvs