दैनिक भास्कर हिंदी: फर्जी पर्सनल आईडी से करता था रेल टिकट का गोरखधंधा, 15 लाख से ज्यादा के टिकट बिक्री के किए रिकॉर्ड जब्त

October 21st, 2018

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। पर्सनल आई-डी से ई-रेल टिकट बुक कराने का गोरखधंधा का पर्दाफ ाश आरपीएफ ने किया है। लगातार मिल रही सूचना और शिकायत पर रविवार को जब आरपीएफ ने कृष्णा ट्रेवल्स में छापा मारा, तो टीम शामिल अधिकारियों के होश उड़ गए। यहां बड़े पैमाने पर रेल टिकट बनाकर बेचने का गोरखधंधा चल रहा था। आरपीएफ ने आरोपी संचालक व अन्य पर मामला दर्ज किया है। पुलिस आरोपियों से पूछताछ कर रही है, पूछताछ के बाद और भी मामले के खुलासा होने की संभावना जतायी जा रही है।

जानकारी के मुताबिक आरपीएफ ने रविवार को रसल चौक स्थित कृष्णा ट्रेवल्स में छापामार कार्रवाई कर हड़कंप मचा दी। मौके पर आईआरसीटीसी की पर्सनल आईडी बनाकर बड़े पैमाने पर ई-रेल टिकट का गोरखधंधा चलाने का भण्डाफोड़ हुआ है। दो लोगों को गिरफ्तार कर उनसे 15 लाख रूपए से ज्यादा की रेल टिकट विक्रय का रिकॉर्ड , रेल टिकट, कम्प्यूटर आदि सामान जब्त किया गया है। जानकारी के अनुसार आरपीएफ की जबलपुर पोस्ट के इंचार्ज इंस्पेक्टर वीरेन्द्र सिंह को सूचना मिली थी कि रसल चौक स्थित कृष्णा ट्रेवल्स में बड़े स्तर पर रेल टिकट बनाकर बेचने का गोरखधंधा चल रहा है।

उन्होंने बताया कि सूचना के बाद  बाद पूरी तैयारी से इंस्पेक्टर वीरेन्द्र सिंह, एएसआई आईएन बघेल, एएसआई लोकेश पटेल, अमित सिंह, संजीव खोसला व शिवराम शर्मा ने छापामार कार्रवाई करते हुए भण्डाफोड़ कर दिया। आरपीएफ सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार गौर के आगे रानी दुर्गावती की समाधि ग्राम सिलुआ रोड निवासी 62 वर्षीय मदनलाल चौधरी पिता सुखराम चौधरी व स्टेट बैंक कालोनी बल्देवबाग निवासी 32 वर्षीय प्रदीप सिंह यादव पिता संग्राम सिंह को गिरफ्तार किया गया है।

प्रदीप सिंह की 13 फर्जी यूजर आईडी व 13 फर्जी जीमेल आईडी का खुलासा हुआ है, जिनके माध्यम से वह पर्सनल आईडी से अवैध तरीके से ई-रेल टिकट बनाने का कारोबार कर रहा था। पूछताछ में  सामने आया है कि प्रदीप यह पूरा काम मदनलाल के इशारे पर करता था। आरपीएफ के मुताबिक आरोपियों से सख्ती से पूछताछ की जाएगी और पता लगाया जाएगा कि वे इस गोरखधंधे को कब से अंजाम दे रहे हैं। इसके  साथ ही शहर के अन्य ठिकानों पर भी दबिश दी जाएगी,जहां-जहां इस प्रकार का गोरखधंधा किया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...