दैनिक भास्कर हिंदी: नागपुर में झामझम बारिश से बढ़ी ठंड , पारा गिरा, फसलों को भी नुकसान

December 10th, 2018

डिजिटल डेस्क, नागपुर। उपराजधानी में रविवार की देर रात झमाझम बारिश होने से ठिठुरन बढ़ गई है वहीं फसलों को भी नुकसान हुआ है। हालांकि पिछले दो-तीन दिन से  बदरीले मौसम के चलते मौसम में ठंडक बनी हुई है। शहर में कई जगह बारिश होने से पारा नीचे गिर गया है। दिन में कई इलाकों में बिजली आपूर्ति खंडित रही। रविवार को अधिकतम तापमान 26.8 डिग्री दर्ज किया गया। शनिवार की अपेक्षा यह तापमान 2 डिग्री कम रहा। आसमान में बादल छाए रहे। मौसम विभाग के अनुसार अगले कुछ दिनों में बादल छंटने की संभावना है। मौसम में आई ठंडक से बचने के लिए लोगों ने गर्म कपड़ों  का सहारा लिया।

विद्युत आपूर्ति हुई खंडित
नगपुर में इस बीच बारिश के चलते कई जगह पेड़ गिरने की सूचना है। हुडकेश्वर रोड पर भाग्यश्री नगर में सुधीर मेश्राम के आंगन में पेड़ गिरा। नुकसान की खबर नहीं है। कई इलाकों में बिजली भी गुल हुई। पेड़ की शाखाएं बिजली के तारों पर गिरने से बिजली आपूर्ति खंडित हुई। बिजलीकर्मी आपूर्ति बहाल करने में लगे रहे। 

इन फसलों को नुकसान
मराठवाड़ा और विदर्भ के ज्यादातर जिलों में बेमौसम बारिश, खासतौर पर रविवार को ओलावृष्टि होने से कपास,  गेहूं, तुअर, ज्वार, और चना  फसल को नुकसान होने का अंदेशा है। तेज हवाओं के साथ हुई बारिश से कई जगह संतरा का बड़े पैमाने पर नुकसान हुआ है। वर्धा-यवतमाल में इन दिनों किसान कपास फसल निकालने की तैयारी में जुटे हुए हैं अचानक बारिश आने से उन्हें काफी नुकसान हुआ है। इसी तरह गेहूं व चना को भी नुकसान होने की जानकारी है।जिन किसानों ने पहले बुआई कर ली थी उन्होंने सोयाबीन काटकर बेचना शुरू कर दिया है। कपास की बिनाई भी चल रही है कई खेतों में कपास पड़ा हुआ है । गेहूं, चना और ज्वार अभी निकल रही है। बारिश से ज्वार काली होने का खतरा बढ़ गया है। फसलों को हुए नुुकसान से किसानों में फिर चिंता देखी जा रही है। नासिक अंगूर के बेमौसम बारिश से नुकसान हुआ है।

खबरें और भी हैं...