राजस्थान : महिला शिक्षिकाएं बनी प्रिंसिपल का सिरदर्द ! शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह बोले- इनके झगड़ों की वजह से खानी पड़ती है सिरदर्द की दवा

October 13th, 2021

डिजिटल डेस्क, जयपुर। राजस्थान के शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा अजीबो-गरीब बयान दिया है। शिक्षा संकुल कार्यक्रम के दौरान डोटासरा ने महिला शिक्षिकाओं को लेकर कहा, आप लोगों के आपस में झगड़े भी बहुत हैं, जहां महिला जिस स्कूल में हैं उन स्कूलों की प्रिंसिपल सेरिडॉन (सिरदर्द की गोली) की दवाई लेती हैं। उस स्कूल में कभी देरी से तो कभी ज़ल्दी आने पर झगड़े होते हैं। अगर आप इन्हें ठीक कर लें तो हमेशा ही आप खुद को पुरुष से 21 मानेंगी। 

 

उन्होंने कहा कि सरकार ने नीति ही ऐसी बना दी है कि महिलाएं पहले। चयन, प्रमोशन में हम सब जगह उनकी काउंसलिंग करके महिलाओं को प्राथमिकता देते हैं। विभाग में कुछ लोग कहते हैं कि क्या हम अच्छा नहीं पढ़ाते ? बता दें कि इससे पहले कर्नाटक के स्वास्थ्य मंत्री डॉ. के सुधाकर ने भी महिलाओं को लेकर अजीब बयान दिया था। उन्होंने कहा था कि आधुनिक भारतीय महिलाएं बच्चों को जन्म नहीं देना चाहती हैं। उन्होंने कहा कि वह या तो कुंवारा रहना चाहती हैं या फिर शादी के बाद भी बच्चों को जन्म नहीं देना चाहती हैं उन्हें सेरोगेसी से बच्चे चाहिए।

राजस्थान के शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा के बयान पर केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने कहा, राजस्थान के शिक्षा मंत्री बेतुका बयान दे रहे हैं। वे ऐसे बयान देकर महिलाओं की क्षमता पर सवालिया निशान लगा रहे हैं। शिक्षा मंत्री होकर महिलाओं के ऊपर ऐसा तंज कसना यह शर्मनाक है।