दैनिक भास्कर हिंदी: लोकसभा चुनाव में एनडीए को हो सकता है नुकसान -आठवले

May 11th, 2019

डिजिटल डेस्क, यवतमाल। लोकसभा चुनाव में एनडीए को देशभर में 20 से 25 सीटों का नुकसान हो सकता है। ऐसी आशंका केंद्रीय सामाजिक न्याय व अधिकारिता राज्यमंत्री रामदास आठवले ने जताई है। आठवले ने यवतमाल जिले के सूखाग्रस्त क्षेत्रों का दौरा किया। जिसके बाद वे प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोल रहे थे। उन्होंने लोकसभा चुनाव में एनडीए की स्थिति, विदर्भ में सूखे के हालात, साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को उम्मीदवारी, राकांपा प्रमुख शरद पवार के चुनाव न लड़ने जैसे सवालों के खुलकर जवाब दिए। आठवले ने कहा कि विदर्भ में सूखे की स्थिति हमेशा बनी रहती है। इस स्थिति से निजात पाने का रामबाण उपाय नदी जोड़ो कार्यक्रम है।

उन्होंने कहा कि आजादी मिले 72 वर्ष बीत जाने के बाद भी लोगों को बुनियादी सुविधाएं नहीं मिल पा रही हैं। यह केंद्र सरकार के लिए अच्छी बात नहीं है। सीएम देवेंद्र फडणवीस विदर्भ के हैं इसलिए वे विदर्भ की समस्या को अच्छे से जानते हैं। विदर्भ के कई जिले सूखे की चपेट में हैं। मराठवाड़ा भी इस आग में झुलस रहा है। उन्होंने कहा कि वे इस दौरे की रिपोर्ट सीएम को सौंपकर उनसे सूखे से निपटने के लिए कारगर कदम उठाए जाने की मांग करेंगे। आठवले ने बताया कि आर्णी के जवला के पास के जांब गांव में सूखे के कारण लोग बिजली बिल नहीं भर पाए। उन्होंने कहा कि बिजली बिल माफ करने के लिए भी वे मुख्यमंत्री और जिलाधिकारी से बात करेंगे।

पवार ने डर कर चुनाव नहीं लड़ा
आठवले ने राकांपा सुप्रीमो शरद पवार के लोकसभा चुनाव न लड़ने का कारण उनके डर को बताया। उन्होंने कहा कि पवार इस बार जहां से लड़ना चाहते थे, वहां भाजपा के जीतने की संभावनाओं के कारण ही वे मैदान छोड़कर चले गए। ईवीएम के मुद्दे पर टिप्पणी करते हुए आठवले ने कहा कि वर्ष 2024 में बैलेट पेपर से चुनाव कराने के लिए सभी पार्टियों को मिलकर अभी से प्रयास करने चाहिए।

प्रज्ञा ठाकुर को टिकट नहीं देना चाहिए था
आठवले के मुताबिक, उन्होंने भाजपा को प्रज्ञा ठाकुर को उम्मीदवार न बनाने की सलाह दी थी, लेकिन उनकी सलाह मानी नहीं गई। उन्होंने कहा कि राज्य के आगामी विधानसभा चुनाव में वे 8 से 12 सीटें भाजपा से मांग रहे हैं। इसमें यवतमाल की उमरखेड़ और नागपुर की उत्तर सीट शामिल हैं। 

शहीद के परिवार को 5 लाख रु. देने का आश्वासन 
आठवले ने गड़चिरोली में नक्सली हमले में शहीद यवतमाल जिले के तरोडा निवासी पुलिसकर्मी अग्रमन बक्षी रहाटे को आरपीआई द्वारा एक माह के भीतर 5 लाख रुपए की सहायता देने का आश्वासन दिया। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ने इस मामले की पूरी जांच करने का आश्वासन दिया है। आठवले ने हमले को लेकर पुलिस अधिकारी शैलेश काले की जांच कराने की मांग भी की। उन्होंने कहा कि समाजसेवी अण्णा हजारे मध्यस्थता के लिए तैयार होते हैं तो नक्सली मुख्य धारा में लौट सकते हैं। वे चुनाव लड़कर अपने अधिकार पा सकते हैं।  देश में रहना है तो संविधान का पालन करना होगा।