राज्य सरकार के खिलाफ अदालत जाने की धमकी : अपनी ही सरकार पर भड़के रामदास कदम

December 24th, 2021

डिजिटल डेस्क, मुंबई। विधान परिषद में शिवसेना सदस्य रामदास कदम अपनी ही सरकार पर जमकर बरसे। कदम ने बगैर नाम लिए प्रदेश के नगर विकास मंत्री एकनाथ शिंदे पर निशाना साधा। साथ ही प्रदेश के गृह राज्य मंत्री शंभूराज देसाई परभी भड़क गए। शुक्रवार को सदन में कदम ने पूरक मांगों के प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान कहा कि रत्नागिरी के खेड नगर परिषद के नगराध्यक्ष तथा मनसे नेता वैभ खेडेकर को अपात्र घोषित करने के लिए जिला प्रशासन ने नगर विकास विभाग के पास प्रस्ताव भेजा है लेकिन नगर विकास विभाग ने दो महीनों से इस प्रस्ताव को दबाकर रखा गया है। खेडेकर सरकार के दामाद हैं क्या? आखिर खेडेकर को अपात्र घोषित क्यों नहीं किया जा रहा है ? कदम ने कहा कि मुझे पता है कि खेडेकर के खिलाफ कार्रवाई न करने के लिए किस दल के नेता ने दबाव बनाया है। यदि खेडेकर के खिलाफ कार्रवाई नहीं हुई तो मैं राज्य सरकार के खिलाफ अदालत में जाऊंगा। कदम ने कहा कि खेडेकर के खिलाफ कई भ्रष्टाचार मामले सिद्ध हो चुके हैं फिर भी उन्हें सुरक्षा के लिए दो पुलिस जवान दिए गए हैं।

 कदम ने कहा कि नियमों के अनुसार खेडेकर नगराध्यक्ष के रूप में एक भी लीटर सरकारी डीजल का इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं। लेकिन उन्होंने नगर परिषद के वाहनों के लिए आवंटित 25 लाख रुपए का डीजल का इस्तेमाल अपनी निजी गाड़ियों के लिए किया है। मैंने इसकी जांच रिपोर्ट नगर विकास विभाग को भेज दिया है। कदम ने कहा कि खेडेकर ने खेड तहसील बौद्धवाडी बनाने के लिए सरकार के सामाजिक न्याय विभाग से 20 लाख रुपए मंजूर कराया था। इसके बाद उन्होंने अपनी निजी इमारत बनाई। फिर उस इमारत तक पहुंचने के लिए 20 लाख रुपए खर्च करके सड़क बना ली है। रत्नागिरी के जिलाधिकारी ने अपनी जांच रिपोर्ट में सरकारी निधि का दुरुपयोग करने के लिए दोषी पाया है।

मैंने जिलाधिकारी की रिपोर्ट के आधार पर खेडेकर के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए देसाई को 10 पत्र लिखा है। लेकिन मेरे पत्रों का संज्ञान नहीं लिया गया। कदम ने देसाई से पूछा कि अब हम क्या संज्ञान लेने लायक भी नहीं रह गए हैं क्या ? लेकिन एक महीना बीतने के बावजूद उनके खिलाफ कोई मामला दर्ज नहीं किया गया। कदम ने देसाई से कहा कि यदि आपके लिए संभव होगा और किसी का दवाब नहीं होगा तो आप खेडेकर के खिलाफ तत्काल मामला दर्ज करें। इसके बाद सदन में उपसभापति नीलम गोर्हे ने कहा कि कदम ने सदन में खेडेकर के खिलाफ दो जांच रिपोर्ट सौंपी है। गौरतलब है कि पिछले दिनों रामदास कदम ने प्रेस कांफ्रेंस कर शिवसेना नेता व परिवहन मंत्री अनिल परब पर आरोप लगाए थे। कदम को शिवसेना ने फिर से विधान परिषद में नहीं भेजा है।शीतकालिन सत्र उनके इस कार्यकाल का अंतिम अधिवेशन है। 
 

खबरें और भी हैं...