दैनिक भास्कर हिंदी: बदलते मौसम में लाइफ स्टाइल को करें सैनिटाइज

November 2nd, 2020

डिजिटल डेस्क, नागपुर । कोविड-19 के कारण लोगों की लाइफ स्टाइल पूरी तरह चेंज हो गई है। स्वास्थ्य को लेकर लोग काफी एक्टिव हो गए हैं। अपने आसपास साफ-सफाई का विशेष ध्यान देते हैं। यानी सेहतमंद रहना किसी चुनौती से कम नहीं है।  कोरोना का संक्रमण रोकने के लिए सभी आवश्यक सावधानियां बरतना भी जरूरी है। खासकर इस बदलते मौसम में तो और जरूरी है, क्योंकि कोरोना वायरस और फ्लू के लक्षणों में अधिक समानता हैं। इसलिए बदलते मौसम में बीमार होने से बचने के लिए विशेषज्ञों की बातों पर ध्यान देना निहायत ही जरूरी है। 

मोबाइल का सैनिटाइजेशन
आजकल बिना स्मार्टफोन के एक मिनट भी जीवन गुजारना मुश्किल है। हर समय हाथ में इसकी जरूरत पड़ती है। स्मार्टफोन कीटाणुओं और जीवाणुओं से होने वाली कई बीमारियों का घर है। हम दिन भर मोबाइल का इस्तेमाल करते हैं। इस दौरान कीटाणु और जीवाणु माोबाइल के संपर्क में आ जाते हैं। एक शोध के अनुसार, मोबाइल में टॉयलेट सीट की तुलना में 10 गुना अधिक बैक्टीरिया होते हैं। इसके लिए जरूरी है कि अपने मोबाइल को दिन में दो से तीन बाार जरूर सैनिटाइज करें।

ढिलाई न बरतें
 विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना काल में बीमार होने से बचने के लिए खराब जीवनशैली में सुधार, खानपान पर ध्यान और रोजाना एक्सरसाइज जरूरी है। साफ़-सफाई तो भूलना ही नहीं है। जल्दबाजी भी सावधानियों में ढिलाई न बरतें। क्योंकि कुछ ऐसी चीज़ें हैं, जो जर्म्स यानी रोगाणुओं को सबसे अधिक कैरी करते हैं। ऐसी चीज़ों की साफ-सफाई दिन में तीन-चार बार नहीं, तो कम से कम दो बार जरूर करनी चाहिए। जैसे मोबाइल, मास्क, घर के दरवाजों के हैंडिल, कॉलबेल, लिफ्ट के स्विच आदि। इससे संक्रमण का खतरा कम हो जाता है। 

अनिवार्य है मास्क धोना 
कोरोना और वायु प्रदुषण के लिए मास्क सुरक्षा कवच है। इसे हम कीटाणुओं और जीवाणुओं से सुरक्षित रह सकते हैं। जब हम मास्क पहनकर बाहर जाते हैं, तो मास्क का सामना गंदगी और विभिन्न प्रकार के कीटाणुओं, वायरसों से होता है। इससे मास्क गंदे और संक्रमित हो जाते हैं। इसके बाद जब बिना धोएं, उसी मास्क को पहनते हैं, तो संक्रमित होने का खतरा बढ़ जाता है। खासकर सर्दी के दिनों में वायु प्रदूषण के चलते बीमार होने की आशंका अधिक रहती है। इसलिए एक बार यूज़ के बाद मास्क को जरूर धोएं। 

इन पर ध्यान देना जरूरी
ऑफिस हो या घर के दरवाजों के हैंडल। इन्हें दिन में दो से तीन बार जरूर साफ करें। खासकर मुख्य दरवाजे को जरूर सैनिटाइज करें। घर में कई लोग आते-जाते हैं। इनसे दरवाजे की कुंडी बार-बार संपर्क में आती है। जब गंदे हाथों से दरवाजे को खोलते हैं, तो जर्म्स इनमें चिपक जाते हैं, उसके बाद दूसरों के हाथों में आ जाते हैं। इसके लिए घर आने के बाद सबसे पहले अपने हाथों को धोएं और घर के मुख्य दरवाजे को सैनिटाइज करें। इसके अलावा कॉलबेल, लिफ्ट के स्विच आदि भी सैनिटाइज करें, तो बेहतर होगा।

सावधानी ही सुरक्षा  
बदलते मौसम में हमें अपने स्वास्थ्य को लेकर सचेत रहने की जरूरत है, साथ ही अपने परिवार की कोरोना से सुरक्षा का ध्यान देना भी जरूरी है। सभी लोगों को बिना कारण यात्रा से बचना होगा। बड़े स्तर पर मिलन समारोह या अन्य कार्यक्रम में जाने से बचें। अपने करीबी और घर के लोगों के साथ त्योहार बनाएं। बाजारों से जितना दूर रहें, उतना बेहतर होगा। इसके साथ ही मास्क पहनना, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना और हाथों को बार-बार धाेने वाले नियमों का पालन करना होगा। हमारी सावधानी ही हमारी सबसे बड़ी वैक्सीन है। रोज उपयोग में आने वाले गैजेट्स, घर के मुख्य दरवाजों के हैंडल आदि को कम से कम दो बार सैनिटाइज जरूर करें।
डॉ. सोनाक्षी जिरवा, सहायक प्राध्यापक, एम्स