दैनिक भास्कर हिंदी: Republic Channel: अर्णब गोस्वामी की लीक व्हाट्सएप चैट को लेकर बोले कांग्रेस प्रवक्ता सचिन सावंत, सफाई दे मोदी सरकार

January 16th, 2021

डिजिटल डेस्क, मुंबई। रिपब्लिक चैनल के प्रमुख अर्णब गोस्वामी और ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (बार्क) के पूर्व सीईओ पार्थो दासगुप्ता के बीच की कथित ह्वाट्सएप चैट के मामले में प्रदेश कांग्रेस ने भाजपा और मोदी सरकार से सफाई देने की मांग की है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता सचिन सावंत ने शुक्रवार को कहा कि सोशल मीडिया पर दासगुप्ता और गोस्वामी की ह्वाट्सएप चैट वायरल हो रही है। इससे साफ होता है कि टीआरपी घोटाले में भारतीय जनता पार्टी और मोदी सरकार का हाथ है। इस मामले में भाजपा और केंद्र सरकार को तुरंत सफाई देनी चाहिए।

सावंत ने कहा कि मुंबई पुलिस ने टीआरपी घोटाले की शिकायत मिलने के बाद जांच शुरू की और इस मामले में रिपब्लिक चैनल की जांच शुरू हुई। मामले में दासगुप्ता को भी गिरफ्तार किया गया। मामले को दबाने के लिए मोदी सरकार ने उत्तर प्रदेश में दूसरा मामला दर्ज कर लिया। ह्वाट्सएप चैट सामने आने के बाद साफ है कि यह सब पूरे मामले को दबाने के लिए किया गया। 

चैट में रिपब्लिक चैनल का प्रमुख अपने प्रधानमंत्री कार्यालय, सूचना और जनसंपर्क कार्यालय और एएस के साथ अपनी नजदीकी की जानकारी दे रहे हैं। साथ ही यह भी नजर आ रहा है कि केंद्र सरकार से संबंधित दोनों लोग रिपब्लिक चैनल की टीआरपी बढ़ाने के लिए व्यूहरचना तैयार कर रहे हैं। सावंत ने कहा कि इस मामले में एएस कौन है भाजपा को यह स्पष्ट करना चाहिए। 

चैट में यह भी दावा किया गया है कि मंत्री राजवर्धन सिंह राठौड ने जानकारी दी है कि रिपब्लिक चैनल को लेकर सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय को मिली शिकायत किनारे लगा दी गई है। इसका मतलब साफ है कि केंद्र सरकार रिपब्लिक चैनल को बचाने की कोशिश कर रही है। 

प्रशांत भूषण ने चैट किए ट्वीट
वरिष्ठ वकील और स्वराज इंडिया से जुड़े प्रशांत भूषण ने अपने ट्विटर एकाउंट के जरिए कुछ ह्वाट्सएप चैट साझा किए हैं जिसे उन्होंने रिपब्लिक टीवी के संपादकीय विभाग के प्रमुख अर्णब गोस्वामी और टीआरपी घोटाले में गिरफ्तार पार्थो दासगुप्ता के बीच हुई बातचीत बताया है। भूषण ने ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (बार्क) के पूर्व सीईओ दासगुप्ता पर आरोप लगाया है कि उन्होंने अर्णब से टीआरपी से जुड़ी गुप्त जानकारियां साझा कीं। प्रशांत भूषण ने अपने ट्वीट में लिखा है कि यह बार्क के सीईओ और अर्णब गोस्वामी के बीच हुई बातचीत के लीक स्नैपशॉट्स हैं। इन स्क्रीनशॉट्स से अर्णब गोस्वामी की सत्ता के गलियारों में पहुंच और तमाम साजिशों का पता लगता है। 

उन्होंने आगे लिखा कि ‘साथ ही यह भी पता लगता है कि किस तरीके से मीडिया और अपनी पोजीशन का पावर ब्रोकर के तौर पर दुरूपयोग किया गया। कानून के रास्ते चलने वाले किसी भी देश में लंबे समय तक जेल भेजने के लिए यह काफी है।’ सोशल मीडिया पर दासगुप्ता और अर्णब की कथित चैट के 500 पेज लीक होने का दावा कर इसे साझा किया जा रहा है। चैट के जरिए यह भी दावा किया जा रहा है कि अर्णब बातचीत में टीआरपी मामले में भाजपा सरकार से खुद को मदद मिलने का भी दावा कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं...