दैनिक भास्कर हिंदी: नागपुर में रामझूले के दूसरे चरण का काम पूरा, अब मांगी गई राय

October 23rd, 2018

डिजिटल डेस्क, नागपुर। रामझूले के दूसरे चरण का काम पूरा हाे गया है आैर इस पर यातायात शुरू करने के पूर्व MSRDC लोड टेस्टिंग की जाए या नहीं इस बारे में VNIT से राय ले रही है। VNIT से जवाब मिलने के बाद ही MSRDC आगे कदम उठाएगी। रामझूला विशेष प्रकार का ब्रिज है आैर पहले चरण का काम पूरा होकर उस पर यातायात दौड रहा है। पहले चरण की लोड टेस्टिंग नहीं की गई थी। दूसरे चरण का काम पूरा हो गया है आैर इसकी लोड टेस्ट करने की जरूरत है या नहीं इस बारे में MSRDC ने कसल्टंट व VNIT से राय मांगी गई है। दरअसल इस तरह का यह राज्य का दूसरा ब्रिज है। लोड टेस्ट किया जाए या नहीं इस बारे में इंडियन रोड कांग्रेस कोड में स्पष्ट उल्लेख नहीं है। MSRDC को उम्मीद है कि VNIT से इस बारे में एक सप्ताह में जवाब मिल जाएगा। VNIT जो सुझाव देगी, उस हिसाब से आगे कदम उठाया जाएगा। लोड टेस्ट करने का सुझाव दिया तो हाइड्रा (विशेष प्रकार का वाहन) से लोड़ टेस्ट किया जाएगा।

सभी ब्रिज की नहीं होता लोड टेस्ट
दरअसल हर ब्रीज इंडियन रोड कांग्रस द्वारा दिए गए मानकों के अनुसार बनते है। इसलिए सभी ब्रीज का लोड टेस्ट करने की जरूरत नहीं पड़ती। केबल के सहारे रामझूले का लोड़ मेंटेन हो रहा है। यह विशेष प्रकार के केबल है आैर विदेशों से यह केबल लाए गए थे। केबल के सहारे बने ब्रीज का लोड टेस्ट करने का कहीं उल्लेख नहीं है। ऐसा माना जाता है कि केबल काफी मजबूत होते है आैर ज्यादा से ज्यादा लोड़ सहन करने में केबल सक्षम होते है। रामझूले के पहले चरण पर दिसंबर 2014 से वाहन दौड़ रहे है आैर इस बारे में अभी तक कोई शिकायत नहीं आई है।

एक सप्ताह में मिल जाएगा सुझाव
अश्विनी घुगे, कार्यकारी अभियंता MSRDC के मुताबिक रामझूले के दूसरे चरण का काम पूरा हो गया है। ब्रीज पर मार्गदर्शक फलक लगाए जाएंगे। यातायात दौड़ाने के पूर्व लोड टेस्टिंग के बारे में जरूरी सुझाव मांगे गए है। लोड टेस्टिंग की जाए या नहीं इसका निर्णय सुझाव मिलने के बाद ही हो सकेगा। एक सप्ताह में सुझाव मिल जाएगा।

खबरें और भी हैं...