दैनिक भास्कर हिंदी: शिवसेना जिला प्रमुख ने जताई बेबसी, मुंबई में अटकी कार्यकारिणी की लिस्ट

February 1st, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। शहर शिवसेना में कार्यकारिणी विस्तार के मामले को लेकर जिला प्रमुख प्रकाश जाधव ने अपनी मजबूरी खुलकर व्यक्त की। अफसोस जताते हुए उन्होंने कहा कि शहर कार्यकारिणी के लिए नामों की सूची तो वे काफी पहले से मुंबई भेज चुके हैं, परंतु मुंबई में सूची फाइनल ही नहीं हो पा रही है। ऐसे में संगठन कार्य कैसे हो पाएगा। युवा सेना के सचिव पूर्वेश सरनाईक ने जाधव की बात को शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे तक पहुंचाने के लिए पूरी ताकत लगाने का आश्वासन दिया। 

युवा सेना संवाद कार्यक्रम में शामिल हुए युवा कार्यकर्ता

रेशमबाग चौक स्थित सेना भवन में युवा सेना का संवाद कार्यक्रम था। कार्यक्रम में पूर्वेश सरनाईक प्रमुखता से शामिल हुए थे। जिला प्रमुख प्रकाश जाधव के अलावा ग्रामीण के जिला प्रमुख राजू हरणे, संदीप इटकेलवार, शहर युवा सेना के प्रमुख हितेश यादव, ग्रामीण युवा सेना के प्रमुख हर्षल काकडे, उपप्रमुख नितीन तिवारी, नगरसेवक किशोर कुमेरिया, अक्षय मेश्राम सहित अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे। पूर्वेश सरनाईक ने युवा व महिला संगठन से जुड़े कार्यकर्ताओं को जनसंवाद करने के लिए कहा। यह भी कहा कि शिवसेना अकेले बल पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है। ऐसे में हर स्तर पर चुनाव तैयारी रहना चाहिए। जिला प्रमुख ने शहर शिवसेना की संगठनात्मक अड़चन का जिक्र करते हुए भाजपा को चुनौती देने की तैयारी भी जताई। उन्होंने कहा कि भाजपा से किसी भी मामले में डरने की आवश्यकता नहीं है। भूतल परिवहन मंत्री नितीन गडकरी से पूछा जाना चाहिए कि सत्ता में आने से पहले उन्होंने युवाओं को रोजगार के संबंध में जो प्रस्तुतिकरण किया था और राेजगार उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया था, वह कितना पूरा हो पाया है। कुछ कार्यकर्ताओं को युवा सेना में प्रवेश भी दिलाया गया।

नेतृत्व को लेकर शिकायत

युवा सेना की बैठक के दौरान कार्यकर्ताओं का सम्मान नहीं करने की शिकायत भी सामने आई। दो दिन से जिला प्रमुख पद के लिए गौरी सावरबांधे का नाम आगे बढ़ाया जा रहा है। बैठक में गौरी भी शामिल थी। सचिव पूर्वेश से शिकायत करते हुए गौरी ने कहा है कि युवा सेना में स्थानीय स्तर पर कार्यकर्ताओं से भेदभाव किया जा रहा है। जिला स्तर के पदाधिकारियों का व्यवहार भी ठीक नहीं है। मंच पर आने नहीं दिया जाता है। गौरी की शिकायत के दौरान बैठक सभा पर माइक भी बंद करना पड़ा। यह भी शिकायत की गई कि युवा सेना चुनाव में सहभागी होने का प्रयास कर रही कार्यकर्ताओं का उपहास उड़ाया जाने लगा है। 1 फरवरी को युवा सेना पदाधिकारी चुनाव के लिए साक्षात्कार लिया जाएगा।