आंदोलन: नागपुर में चली बंद की नारेबाजी, पर खुली रहीं दुकानें

October 12th, 2021

डिजिटल डेस्क,नागपुर। केंद्र सरकार व भाजपा के विरोध में महाविकास आघाड़ी के कार्यकर्ताओं ने बंद प्रदर्शन किया। शहर में प्रमुख चौराहों सहित विविध क्षेत्रों में जमकर नारेबाजी की गई। इस प्रदर्शन के दौरान कुछ स्थानों पर कुछ समय के लिए दुकानों का शटर गिरा, लेकिन जल्द ही सारी दुकानें खुल गईं। आवागमन व विविध संस्थाओं का कामकाज अबाधित जारी रहा। उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में किसानों की मौत के मामले को लेकर महाविकास आघाड़ी ने केंद्र सरकार व भाजपा शासित राज्य सरकारों के विरोध में बंद-प्रदर्शन का आह्वान किया था।

संवैधानिक नियमों पर आघात
कांग्रेस, शिवसेना व राकांपा के कार्यकर्ताओं ने अलग-अलग क्षेत्र में प्रदर्शन कर के केंद्र सरकार के िवरोध में नारे लगाए। मुख्य प्रदर्शन वेरायटी चौक सीताबर्डी में महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने किया गया। महाविकास आघाड़ी के नेताओं ने कहा कि भाजपा के नेतृत्व की सरकार संवैधानिक नियमों पर आघात कर रही है। मानवाधिकार का ध्यान नहीं रखा जा रहा है। सरकार के विरोध में बोलने वालों को विविध जांच एजेंसियांें के माध्यम से धमकाया जाता है। किसान आंदोलन को लेकर तो भाजपा के नेतृत्व की सरकार एकदम संवेदनहीन हो गई है। किसानों की मांगें सुनने के बजाय उन्हें मार डालने का कार्य किया जाने लगा है।

मोदी, योगी के विरोध में नारे
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के विरोध में नारे लगाए गए। शिवाजी पुतला चौक महल, सक्करदरा चौक, गोलीबार चाैक, कमाल चौक, पारडी चौक, वर्धमान नगर चौक, इंदोरा चौक, रामनगर, धरमपेठ में भी नारेबाजी की गई। कांग्रेस के शहर अध्यक्ष विकास ठाकरे, शिवसेना के महानगर प्रमुख प्रमोद मानमोड़े, राकांपा के शहर अध्यक्ष दुनेश्वर पेठे के नेतृत्व में विधानसभा क्षेत्र स्तर पर भी महाविकास आघाड़ी के कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया। कहीं कहीं बंद कराने को लेकर विवाद की स्थिति बनी। हालांकि व्यापक पुलिस बंदोबस्त के चलते शांति व्यवस्था कायम रही। इस बंद प्रदर्शन में जनता दल,भाकपा, रिपब्लिकन दल के अलावा अन्य संगठनों पदाधिकारी भी शामिल हुए।

शिवसेना ने किया 16 स्थानों पर प्रदर्शन
शिवसेना ने करीब 16 स्थानों पर बंद को सफल बनाने के लिए प्रदर्शन किया। महानगर संपर्क प्रमुख दुष्यंत चतुर्वेदी के मार्गदर्शन में महानगर प्रमुख प्रमोद मानमोड़े, शहर प्रमुख नितीन तिवारी, दीपक कापसे, युवा सेना जिला अधिकारी हितेश यादव  के नेतृत्व में नारेबाजी की गई। म्हालगीनगर चौक, मानेवाड़ा चौक, दिघोरी उड़ानपुल, जगनाड़े चौक, चिखली चौक, झाड़े चौक, टेलीफोन एक्सचेंज चौक, शारदा कंपनी चौक, जरीपटका चौक, इंदोरा चौक, कपिल नगर चौक, गोलीबार चौक, शिवाजी पुतला, गोरेवाड़ा चौक, टीवी टावर चौक, छत्रपति चौक में प्रदर्शन किया गया। विशाल बरबटे, मंगला गवरे, किशाेर पराते, मुन्ना तिवारी, नाना झोड़े सहित अन्य कार्यकर्ता शामिल हुए।

405 को हिरासत में लेकर छोड़ दिया
बंद के दौरान प्रदर्शनकारियों के खिलाफ बर्डी, तहसील, प्रताप नगर, पारडी, कोराड़ी आदि ऐसे कुल सात थानों में प्रदर्शनकारियों के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया गया है। कुल 405 प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लेकर छोड़ा गया। कुछ स्थानों पर तनाव का माहौल भी बना।

 

 

खबरें और भी हैं...