दैनिक भास्कर हिंदी: राज्यमंत्री पाठक के बेटे और दोस्तों ने दिवाली की रात किया हंंगामा, शराब दुकान में तोड़फोड़

May 31st, 2018

डिजिटल डेस्क,कटनी। जब पूरा देश दिवाली मना रहा था तो वहीं कटनी जिले के स्लीमनाबाद में हंगामा मचा हुआ था। यहां शराब को लेकर करीब 4 घंटों तक हंगामा और मारपीट होती रही। इस दौरान पुलिस मूकदर्शक बनी खड़ी रही। इस विवाद में शराब दुकान के कर्मचारी गंभीर घायल हो गए। इन घायलों को कहां भर्ती कराया गया। इस बारे में पुलिस अधिकारियों को कोई सुराग नही है। इस मामले की किसी ने थाने में रिपोर्ट  भी दर्ज नही कराई गई।  स्लीमनाबाद में एतिहात के तौर पर काफी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है। बताया जा रहा है कि मारपीट और हंगामा राज्यमंत्री संजय पाठक के बेटे यश पाठक और उसके साथियों ने किया है। बताया जा रहा है कि शराब दुकान के साथ ही आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों के फुटेज पुलिस ने राजनीतिक दबाव में हटवा दिए हैं। पुलिस अफसर इस बारे में सीधे बातचीत करने से बच रहे हैं। 
क्या है मामला ?
बताया जा रहा है कि बीती रात राज्यमंत्री संजय पाठक के पुत्र यश पाठक दोस्तों के साथ पार्टी मनाकर रात्रि 12 बजे स्लीमनाबाद पहुंचे। जहां कुछ युवाओं ने शराब दुकान में बीयर की मांग की। शराब दुकान के कर्मचारी सुनीलअग्रहरि ने शराब देने से मना कर दिया। इसी बात पर विवाद के बाद मारपीट हो गई। इसके बाद सभी स्लीमनाबाद पहुंचे, जहां दुकान में जमकर तोड़फोड़ की गई। हमले में शराब दुकान के दो कर्मचारी गंभीर रूप से घायल हो गए।

 

पुलिस को नही है जानकारी
हमले में घायल दोनों कर्मचारी को शराब ठेकेदार पुलिस को सूचना दिए बिना कहा ले गया इसकी जानकारी किसी को नही है। ठेकेदार को जैसे ही पता चला कि घटना के तार राज्यमंत्री के बेटे से जुड़े है,वो आनन फानन में दोनों घायलों को सीधे जबलपुर ले गया। जहां किसी निजी अस्पताल में इलाज कराया जारहा है। घायलों के परिजन भी कुछ नहीं बोल रहे हैं।  हमले में बीच बचाव में आई तीन महिलाएं भी घायल हुई है।
 कटनी एसपी अतुल सिंह का कहना है कि स्लीमनाबाद में शराब दुकान में मारपीट,  हंगामा की सूचना पर डायल 100 की टीम पहुंची थी, लेकिन वहां कोई नही मिला। घटना की शिकायत भी किसी ने अभी तक दर्ज नही कराई है।

CCTV फुटेज गायब
शराब दुकान में हंगामा मारपीट की घटना की CCTV कैमरे में कैद फुटेज गायब कर दी गई है ताकि कोई सुराग न मिल सके। उधर, घटना के बाद स्लीमनाबाद में सन्नाटा पसरा हुआ है। पुलिस शराब दुकान के आसपास तैनात है। घटना में घायलों के परिजनों को नजरबंद कर दिया गया है। उन पर भी बयान नहींं देने का दबाव है।