दैनिक भास्कर हिंदी: नाइजीरियन युवक भारत में चला रहा था ठगी का रैकेट, जबलपुर STF ने दबोचा

May 1st, 2018

डिजिटल डेस्क  जबलपुर। शादी डॉट काम के जरिए महिलाओं से दोस्ती करने तथा भारत आने की सूचना देकर उनसे कस्टम ड्यूटी चुकाने के नाम पर लाखों रुपये बटोरने वाले एक ठग गिरोह के मुखिया नाइजीरियन युवक जान अंबरी और उसके साथी बद्रीस मिश्रा उर्फ बद्री को गिरफ्तार करने में STF को सफलता मिली है। इससे पहले इस मामले में तीन और लोगों को गिरफ्तार किया गया था। जबलपुर की एसटीएफ इकाई द्वारा की गई कार्रवाई से बड़ी संख्या में ठगी के मामले उजागर होने की संभावना है। इस गिरोह के तार न केवल नाइजीरिया, बल्कि दिल्ली व कानपुर से भी जुड़े हुए थे।

महाराजपुर की युवती से ऐंठे 16 लाख रूपए
इस संबंध में एसटीएफ की ओर से जानकारी है कि जबलपुर के महाराजपुर की एक युवती ने शादी डॉट काम पर अपना प्रोफाइल लोड किया था। उसके पास मैक्स विलियम के फर्जी नाम से फ्रेंड रिक्वेस्ट आई थी। युवती द्वारा स्वीकार करने के बाद, इस वर्ष 3 मार्च को अपने आप को लंदन निवासी मैक्स विलियम बताने वाले युवक ने युवती से मिलने के लिए भारत आने की बात कही। उसने युवती से कहा कि वह जो सामान उसके लिए लाया  है, उसे कस्टम वालों ने रोक दिया है। मदद के नाम पर उसने युवती से उसके बैंक खाते में भारतीय रुपए डालने को कहा। ऐसी कहानी बताकर युवक ने महिला से 16 लाख 50 हजार रुपए अपने बैंक खाते में जमा करा लिये। पैसे जमा कराने के बाद ठग ने मोबाइल बंद  कर लिया। युवती द्वारा राज्य साइबर पुलिस के पास शिकायत दी गई थी। इस मामले में प्रकरण दर्ज करने के बाद छानबीन के निर्देश एसपी शैलेन्द्र चौहान द्वारा दिये गए हैं।

दिल्ली में बैठा था विदेशी ठग
मामले की छानबीन के दौरान गिरोह के तीन आरोपी हरेन्द्र सिंह, सिद्धार्थ शर्मा व शिवम गुप्ता को कानपुर से पकड़ा गया। उक्त लोगों ने नाइजीरियन युवक के बारे में जानकारी दी थी। इस आधार पर निरीक्षक हरिओम दीक्षित एवं पंकज साहू, विकास कुमार, अमित गुप्ता, आसिफ खान, अजीत गौतम की टीम ने दिल्ली में पहले बद्री को पकड़ा, फिर उसकी निशानदेही पर नाइजीरियन युवक जान अंबरी को दिल्ली के विकास नगर से दबोच लिया। जान कमीशन पर अपने साथियों से ठगी की रकम उनके खाते में मंगवाता था और फिर उनको कमीशन देकर बाकी रकम ऐंठ लेता था। उक्त ठग गिरोह ने जबलपुर के अलावा यूपी, बिहार, दिल्ली आदि क्षेत्रों में महिलाओं से ठगी की है। इस गिरोह का मुखिया जान अंबरी है।