दैनिक भास्कर हिंदी: नागपुर में छात्रों को पिलाया टॉयलेट का पानी, देखते रहे शिक्षाधिकारी

March 5th, 2018

डिजिटल डेस्क नागपुर।  स्वच्छता मुहिम की स्कूलों में ही धज्जियां उड़ती दिख रही है। जिला परिषद स्कूलों के जिला स्तरीय क्रीड़ा स्पर्धा में स्टूडेंट्स को टायलेट के नल का पानी पिलाने का मामला सामने आने के 10 दिनों बाद भी कोई कार्रवाई नहीं की गई है। बताया जाता है कि स्टूडेंट्स के स्वास्थ्य के साथ हो रहे खिलवाड़ से प्राथमिक शिक्षाधिकारी दीपेंद्र लोखंडे को उसी समय अवगत कराया गया, लेकिन लोखंडे सब कुछ होता देख केवल कार्रवाई करने की बात करते रहे। महाराष्ट्र राज्य शिक्षक सेना के जिला कार्याध्यक्ष तुषार अंजनकर ने यह गंभीर आरोप लगाते हुए लापरवाही बरतने वालाें पर सख्त कार्रवाई करने की मांग की है।

स्पोर्ट्स इवेंट में सामने आई ढेरोंं खामियां
जिला स्तरीय क्रीड़ा सम्मेलन 23 और 24 फरवरी को काटोल मार्ग स्थित कन्या स्कूल में आयोजित किया गया। संपूर्ण जिले के जिप स्कूलों  के स्टूडेंट्स सम्मेलन में शामिल हुए। आयोजन स्थल पर आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध नहीं होने से उन्हें परेशानियों का सामना करना पड़ा। अनेक विद्यार्थी अपनी कला का प्रदर्शन किए बिना खाली हाथ लौट गए। हद तो तब हो गई, जब शुद्ध पानी की बैरल में टायलेट के नल का पानी भरकर विद्यार्थियों को पिलाया गया। हालांकि प्राथमिक शिक्षाधिकारी को स्टूडेंट्स के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ से तुषार अंजनकर ने उसी समय अवगत कराया, पर उनकी शिकायत का शिक्षाधिकारी पर कोई असर नहीं हुआ। वे संबंधितों के खिलाफ कार्रवाई करने की बात करते रहे।

नहीं हुई कार्रवाई
हालत यह है कि 10 दिन के बाद भी संबंधितों को साधारण कारण बताओ नोटिस तक जारी नहीं किया गया है। इस मामले में शिक्षणाधिकारी पर लापरवाही के आरोप लगाते हुए जिप मुख्य कार्यकारी अधिकारी से शिकायत की गई है। इसी प्रकार आयाेजन स्थल पर स्टूडेंट्स के रहने, खान-पान तथा स्वास्थ्य की सुविधा में घोर लापरवाही बरती गई है। दूसरे दिन एक स्टूडेंट खेल मैदान में गश खाकर गिर गया। स्वास्थ्य सेवा तक उपलब्ध नहीं थी। उसे उपचार के लिए बाहर ले जाना पड़ा। पहले ही दिन स्टूडेंट्स को बासा खाना परोसा गया। विरोध करने के बाद ताजा भोजन बनाकर परोसा गया। तब तक विद्यार्थी भूख से तड़पते रहे। मुख्य कार्यकारी अधिकारी से की गई शिकायत में इन सभी अनियमितताओं का जिक्र किया गया है।

सख्त कार्रवाई होनी चाहिए
जिला स्तरीय क्रीड़ा सम्मेलन में असुविधाओं की जिप मुख्य कार्यकारी अधिकारी से शिकायत की गई है। कार्यक्रम स्थल पर सुविधाओं का अभाव रहा है। विद्यार्थियों के रहने, खान-पान, स्वास्थ्य सेवा तथा अन्य सुविधाओं में लापरवाही बरती गई है। विद्यार्थियों को शौचालय का पानी पिलाकर उनके स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ किया गया है। इस गंभीर मामले की जांच कर लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए।
- तुषार अंजनकर, जिला कार्याध्यक्ष, महाराष्ट्र राज्य शिक्षक सेना