दैनिक भास्कर हिंदी: नागपुर यूनिवर्सिटी बदल रही है मैरिट लिस्ट की पॉलिसी, दीक्षांत समारोह में शामिल होंगे टाटा-अंबानी

September 25th, 2018

डिजिटल डेस्क, नागपुर। राष्ट्रसंत तुकड़ोजी महाराज नागपुर विश्वविद्यालय दीक्षांत समारोह में मुख्य अतिथि के तौर पर टाटा उद्योग समूह के रतन टाटा और रिलायंस इंडस्ट्रीज के मुकेश अंबानी को आमंत्रित करने जा रहा है। इसी सूची में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर का भी नाम शामिल है। तीनों में किसी एक को बतौर मुख्य अतिथि दीक्षांत समारोह में आमंत्रित किया जाएगा। इसके अलावा दीक्षांत समारोह की मेरिट लिस्ट को लेकर अपनी पॉलिसी में बदलाव का फैसला किया है। हर बार लिस्ट में गड़बड़ी और टॉपर स्थान को लेकर विवाद सामने आता है। ऐसे में यूनिवर्सिटी ने मेरिट और गोल्ड मेडलिस्ट की पॉलिसी में स्पष्टता लाने के लिए कुछ कदम उठाए हैं।

नई नीति के अनुसार जिन पाठ्यक्रमों में सीजीपीए के आधार पर मेरिट लिस्ट तैयार होती है, वहां अगर दो विद्यार्थियों का सीजीपीए एक जैसा हो, तो उनमें जिसके अंक ज्यादा होंगे उसे टॉपर माना जाएगा। अगर दोनों के अंक भी एक समान हों, तो जिसकी उम्र कम होगी उसे टॉपर माना जाएगा। पिछली नीति में दो विद्यार्थियों का सीजीपीए एक जैसा होने असमंजस की स्थिति बनती थी। जिससे कई ऐसे विद्यार्थियों ने खुद के टॉपर होने का दावा ठोका, जिनकी उम्र दूसरे से बड़ी थी, मगर अंक ज्यादा थे। इस विवाद से बचने के लिए यूनिवर्सिटी ने अपनी नीति में बड़ा बदलाव करने का निर्णय लिया है।

बीते दीक्षांत समारोह में हुआ था विवाद
यूनिवर्सिटी के 105वें दीक्षांत समारोह में मेरिट लिस्ट के आधार पर आवंटित मेडल और पुरस्कारों को लेकर जमकर विवाद हुआ था। समारोह के बाद एक के बाद एक विद्यार्थी मेरिट सूची में गड़बड़ी की शिकायतें कर रहे थे। एक छात्रा के पिता ने तो दीक्षांत समाराेह के दौरान ही जमकर हंगामा किया था। कुलगुरु को उस छात्रा को विशेष मेडल देना पड़ा। इसके बाद एमए के विद्यार्थियों की भी शिकायतें भी कि उन्हें प्रथम वर्ष (1 और 2 सेमेस्टर) में सर्वाधिक एसजीपीए अंक प्राप्त हुए थे। लेकिन इसके बावजूद उसे नहीं बल्कि उससे काफी कम अंक प्राप्त करने वाली छात्रा को विवि ने द डॉ. पंजाबराव देशमुख मेमोरियल प्राईज से नवाजा गया। यूनिवर्सिटी आगामी दीक्षांत समारोह में इस तरह के विवाद नहीं चाहती।

दो तरीकों से तैयार होती है लिस्ट
दरअसल नागपुर यूनिवर्सिटी में संचालित पाठ्यक्रमों का दो श्रेणियों में विभाजन किया गया है। पाठ्यक्रम (बी.ए., बी.कॉम, बी.एससी) में अंकों के आधार पर मेरिट लिस्ट तैयार होती है। अगर दो विद्यार्थियों के अंक एक से हो, तो जिसकी उम्र कम हो उसे टॉपर माना जाता है। वहीं अब तक सीजीपीए के आधार पर तैयार होने वाली मेरिट लिस्ट में भी यही नियम था कि सीजीपीए एक सा होने पर कम उम्र वाले को टॉपर माना जाता था। जिसमें अब बदलाव होगा।

शुरु हुई दीक्षांत समारोह की तैयारिया
विश्वविद्यालय का 106वां दीक्षांत समारोह नवंबर में प्रस्तावित है। इसके मद्देनजर मेरिट लिस्ट जारी करना शुरु कर दिया है। इसे लेकर 27 सितंबर को मैनेजमेंट काउंसिल की बैठक बुलाई है। जिसमें दीक्षांत समारोह के आयोजन को अंतिम रूप दिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...